Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jan 2024 · 1 min read

गांव की बात निराली

गांव की बात बड़ी निराली,
चारो तरफ फैली हरियाली,
खुला खुला सा इक आंगन,
चांद सितारों से भरा गगन,
पंछियों का कलरव प्यारा,
प्यारा लगता है गांव हमारा,
हरे भरे पेड़ देते है छाया,
देख देख मन को गांव भाया,
देखों रंग बिरंगी तितली सारी,
फूलों से भरी हर एक क्यारी,
खेत खलिहान अन्न से भरे,
देख सुंदरता सब थकान हरे,
ऐसा मेरा यह सुंदर सा गांव,
पग पग पर है प्रेम की छांव,

Language: Hindi
105 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from जगदीश लववंशी
View all
You may also like:
मुश्किलों पास आओ
मुश्किलों पास आओ
Dr. Meenakshi Sharma
तुकबन्दी,
तुकबन्दी,
Satish Srijan
हम दो अंजाने
हम दो अंजाने
Kavita Chouhan
जब मैसेज और काॅल से जी भर जाता है ,
जब मैसेज और काॅल से जी भर जाता है ,
Manoj Mahato
दिल दिया था जिसको हमने दीवानी समझ कर,
दिल दिया था जिसको हमने दीवानी समझ कर,
Vishal babu (vishu)
सुनो...
सुनो...
हिमांशु Kulshrestha
पैसा
पैसा
Sanjay ' शून्य'
आदान-प्रदान
आदान-प्रदान
Ashwani Kumar Jaiswal
तेरी याद
तेरी याद
SURYA PRAKASH SHARMA
अपमान समारोह: बुरा न मानो होली है
अपमान समारोह: बुरा न मानो होली है
Ravi Prakash
Love is a physical modern time.
Love is a physical modern time.
Neeraj Agarwal
यदि है कोई परे समय से तो वो तो केवल प्यार है
यदि है कोई परे समय से तो वो तो केवल प्यार है " रवि " समय की रफ्तार मेँ हर कोई गिरफ्तार है
Sahil Ahmad
दौलत से सिर्फ
दौलत से सिर्फ"सुविधाएं"मिलती है
नेताम आर सी
पहाड़ के गांव,एक गांव से पलायन पर मेरे भाव ,
पहाड़ के गांव,एक गांव से पलायन पर मेरे भाव ,
Mohan Pandey
गलतियां सुधारी जा सकती है,
गलतियां सुधारी जा सकती है,
Tarun Singh Pawar
श्री कृष्ण अवतार
श्री कृष्ण अवतार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
किसी भी व्यक्ति के अंदर वैसे ही प्रतिभाओं का जन्म होता है जै
किसी भी व्यक्ति के अंदर वैसे ही प्रतिभाओं का जन्म होता है जै
Rj Anand Prajapati
आदमी चिकना घड़ा है...
आदमी चिकना घड़ा है...
डॉ.सीमा अग्रवाल
" खामोशी "
Aarti sirsat
* प्रेम पथ पर *
* प्रेम पथ पर *
surenderpal vaidya
कोई पागल हो गया,
कोई पागल हो गया,
sushil sarna
इधर उधर की हांकना छोड़िए।
इधर उधर की हांकना छोड़िए।
ओनिका सेतिया 'अनु '
‘ विरोधरस ‘ [ शोध-प्रबन्ध ] विचारप्रधान कविता का रसात्मक समाधान +लेखक - रमेशराज
‘ विरोधरस ‘ [ शोध-प्रबन्ध ] विचारप्रधान कविता का रसात्मक समाधान +लेखक - रमेशराज
कवि रमेशराज
बहन की रक्षा करना हमारा कर्तव्य ही नहीं बल्कि धर्म भी है, पर
बहन की रक्षा करना हमारा कर्तव्य ही नहीं बल्कि धर्म भी है, पर
जय लगन कुमार हैप्पी
कर्बला की मिट्टी
कर्बला की मिट्टी
Paras Nath Jha
जिन्दगी से भला इतना क्यूँ खौफ़ खाते हैं
जिन्दगी से भला इतना क्यूँ खौफ़ खाते हैं
Shweta Soni
2943.*पूर्णिका*
2943.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
प्रेम में डूब जाने वाले,
प्रेम में डूब जाने वाले,
Buddha Prakash
नहीं चाहता मैं किसी को साथी अपना बनाना
नहीं चाहता मैं किसी को साथी अपना बनाना
gurudeenverma198
Loading...