Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Aug 2023 · 2 min read

— ग़दर 2 —

सिर्फ यह फिल्म है..फिल्म , अगर इतना ही दम है यह सब दिखाने का तो एक बार सन्नी देवोल को पाकिस्तान भेज के सैर करवा दो.. अपने घर में या अपनी गली में तो कुत्ता भी शेर होता है, यही सुना था आजतक…

हम हिंदुस्तान के लोग ऐसे ही ख्याली पुलाव पका पका कर ख़ुद को खुश करते रहते है, सांसद बन जाने के बाद चार साल में ग़दर 2 तो बना ली, पर बंदा एक बार भी अपने उस स्थान पर नहीं गया , जहा से सांसद बना था , न जाने क्यूँ यह पार्टी के लोग , जनता का बेवकूफ बनाने के लिए ऐसे ऐसे नौसिखिओं को सांसद बना देते है, यह रटे रटाए शब्द तो बोल सकते हैं, क्योंकि इनका लालन पालन ही डाइरेक्टर के द्वारा हुआ था, तो इनको किसी की पीड़ा का एहसास क्या होगा ! इन को यह तो पता होता है, कि इनका चुनाव फिल्म में रोल करने के आधार पर किया गया है, इस लिए जनता ने सांसद बनाया है ! न की इस कारण से की तुम बेफिक्र होकर सो जाओ, दुनिआ अपनी समस्याओं को लेकर किसी दुसरे का दरवाजा खटखटाये

न जाने क्यूँ पार्टी ऐसे लोगों पर पैसा व्यर्थ करती है, बड़ा दुःख होता है यह देखकर की पैसे का मोल शायद पार्टी के लोग भी नही जानते , इसी लिए पैसा व्यर्थ करते हैं ! अच्छे काम तो होते नहीं, ऐसे ऐसे काम होते है, जिस से जनता भड़कती रहे – बस !

फिल्म को बस फिल्म के नजरिये से देखो, अगर असलियत में सन्नी में ताकत है तो एक बार बॉर्डर पर जाकर अपनी ताकत दिखाए, इन बेवकूफों के चक्कर में पढ़कर लोग खुद को ताकतवर समझने लग जाते है, यह बस अपने पैसे के खेल में माहिर है, यह और इनके जज्बात दुनिआ में भड़काने के काम करते हैं, है क्या इस में हिम्मत है , जो यह दुसरे देश से हैंड पम्प उखाड़ के ले आएगा, या उनकी सर जमीं पर जाकर आक्रमण कर देगा, मात्र पैसा कमाना इनका उद्देशय है, और सीधी साधी जनता इनके ख्यालात मन में लेकर उस चीज को अंजाम देती है ! और आपसे में ही आक्रमकता का रूक अपना लेती है ! सब बकवास है, सब बकवास, किसी को अपनी फिल्म हिट करनी है, किसी को अपनी टी आर पी बढ़ानी है ! इस से ज़्यादा और कुछ नहीं है !

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
Tag: लेख
200 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
31/05/2024
31/05/2024
Satyaveer vaishnav
*थोड़ा समय नजदीक के हम, पुस्तकालय रोज जाऍं (गीत)*
*थोड़ा समय नजदीक के हम, पुस्तकालय रोज जाऍं (गीत)*
Ravi Prakash
आरजू
आरजू
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सपने का सफर और संघर्ष आपकी मैटेरियल process  and अच्छे resou
सपने का सफर और संघर्ष आपकी मैटेरियल process and अच्छे resou
पूर्वार्थ
तू एक फूल-सा
तू एक फूल-सा
Sunanda Chaudhary
एक सच और सोच
एक सच और सोच
Neeraj Agarwal
एक दिन का बचपन
एक दिन का बचपन
Kanchan Khanna
ज़िंदगी - एक सवाल
ज़िंदगी - एक सवाल
Shyam Sundar Subramanian
जान लो पहचान लो
जान लो पहचान लो
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
2848.*पूर्णिका*
2848.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
केशव
केशव
Dinesh Kumar Gangwar
खुद को जानने में और दूसरों को समझने में मेरी खूबसूरत जीवन मे
खुद को जानने में और दूसरों को समझने में मेरी खूबसूरत जीवन मे
Ranjeet kumar patre
प्यारी प्यारी सी
प्यारी प्यारी सी
SHAMA PARVEEN
........,!
........,!
शेखर सिंह
प्रद्त छन्द- वासन्ती (मापनीयुक्त वर्णिक) वर्णिक मापनी- गागागा गागाल, ललल गागागा गागा। (14 वर्ण) अंकावली- 222 221, 111 222 22. पिंगल सूत्र- मगण तगण नगण मगण गुरु गुरु।
प्रद्त छन्द- वासन्ती (मापनीयुक्त वर्णिक) वर्णिक मापनी- गागागा गागाल, ललल गागागा गागा। (14 वर्ण) अंकावली- 222 221, 111 222 22. पिंगल सूत्र- मगण तगण नगण मगण गुरु गुरु।
Neelam Sharma
मैं घाट तू धारा…
मैं घाट तू धारा…
Rekha Drolia
मैं आदमी असरदार हूं - हरवंश हृदय
मैं आदमी असरदार हूं - हरवंश हृदय
हरवंश हृदय
लहू जिगर से बहा फिर
लहू जिगर से बहा फिर
Shivkumar Bilagrami
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ईश्वर के रहते भी / MUSAFIR BAITHA
ईश्वर के रहते भी / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
खुद से ज्यादा अहमियत
खुद से ज्यादा अहमियत
Dr Manju Saini
International Yoga Day
International Yoga Day
Tushar Jagawat
धर्म अधर्म की बाते करते, पूरी मनवता को सतायेगा
धर्म अधर्म की बाते करते, पूरी मनवता को सतायेगा
Anil chobisa
हद्द - ए - आसमाँ की न पूछा करों,
हद्द - ए - आसमाँ की न पूछा करों,
manjula chauhan
खामोश अवशेष ....
खामोश अवशेष ....
sushil sarna
छोटे-मोटे कामों और
छोटे-मोटे कामों और
*प्रणय प्रभात*
शरद पूर्णिमा की देती हूंँ बधाई, हर घर में खुशियांँ चांँदनी स
शरद पूर्णिमा की देती हूंँ बधाई, हर घर में खुशियांँ चांँदनी स
Neerja Sharma
हँसते गाते हुए
हँसते गाते हुए
Shweta Soni
Loading...