Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jan 2024 · 1 min read

ग़ज़ल

नही होता है गुनाहों से वफा का रिश्ता ।
दर्द देता ही है जो रखता सजा का रिश्ता ।

ख़ूबसूरत वो वफाई में उतना लगता है ।
जितना रखता है जो उल्फ़त से अदा का रिश्ता ।

मिलके धरती से आसमां भी बिखर जाता है।
जब बनाता है बादलों से घटा का रिश्ता ।

भूख इंसान की औकात बता देती है ।
तब पता चलता है रोटी से कज़ा का रिश्ता ।

मेरी उम्मीदों के जुगनू हैं तेरी आँखों में
महज़ तुम्ही से मैं रखता हूँ ख़ुदा का रिश्ता ।

Language: Hindi
1 Like · 77 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mahendra Narayan
View all
You may also like:
मेरे फितरत में ही नहीं है
मेरे फितरत में ही नहीं है
नेताम आर सी
*देश के  नेता खूठ  बोलते  फिर क्यों अपने लगते हैँ*
*देश के नेता खूठ बोलते फिर क्यों अपने लगते हैँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सादिक़ तकदीर  हो  जायेगा
सादिक़ तकदीर हो जायेगा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिल एक उम्मीद
दिल एक उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
मैं भटकता ही रहा दश्त ए शनासाई में
मैं भटकता ही रहा दश्त ए शनासाई में
Anis Shah
शिवाजी गुरु स्वामी समर्थ रामदास – भाग-01
शिवाजी गुरु स्वामी समर्थ रामदास – भाग-01
Sadhavi Sonarkar
किस्मत
किस्मत
Neeraj Agarwal
*पानी व्यर्थ न गंवाओ*
*पानी व्यर्थ न गंवाओ*
Dushyant Kumar
आटा
आटा
संजय कुमार संजू
निरुपाय हूँ /MUSAFIR BAITHA
निरुपाय हूँ /MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"चुल्लू भर पानी"
Dr. Kishan tandon kranti
मीठा खाय जग मुआ,
मीठा खाय जग मुआ,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
" बच्चा दिल का सच्चा"
Dr Meenu Poonia
आख़री तकिया कलाम
आख़री तकिया कलाम
Rohit yadav
♥️पिता♥️
♥️पिता♥️
Vandna thakur
गीत
गीत
Shiva Awasthi
तू आ पास पहलू में मेरे।
तू आ पास पहलू में मेरे।
Taj Mohammad
कदम बढ़ाकर मुड़ना भी आसान कहां था।
कदम बढ़ाकर मुड़ना भी आसान कहां था।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*कालरात्रि महाकाली
*कालरात्रि महाकाली"*
Shashi kala vyas
परमात्मा
परमात्मा
ओंकार मिश्र
बीच-बीच में
बीच-बीच में
*Author प्रणय प्रभात*
मुस्कुराकर देखिए /
मुस्कुराकर देखिए /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नेमत, इबादत, मोहब्बत बेशुमार दे चुके हैं
नेमत, इबादत, मोहब्बत बेशुमार दे चुके हैं
हरवंश हृदय
मन ,मौसम, मंजर,ये तीनों
मन ,मौसम, मंजर,ये तीनों
Shweta Soni
3142.*पूर्णिका*
3142.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सबसे बढ़कर जगत में मानवता है धर्म।
सबसे बढ़कर जगत में मानवता है धर्म।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
गुजरे वक्त के सबक से
गुजरे वक्त के सबक से
Dimpal Khari
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
भगतसिंह का क़र्ज़
भगतसिंह का क़र्ज़
Shekhar Chandra Mitra
* मन कही *
* मन कही *
surenderpal vaidya
Loading...