Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2023 · 1 min read

ग़ज़ल – इश्क़ है

दरिया का तूफान इश्क है
जिसमें एक इंसान इश्क है

कोई न जाने कब क्या होगा
ख़ुद से भी अनजान इश्क है

ना समझो आसान इश्क है
समझो तो नादान इश्क है

हर चाहत का इससे रुतबा
हर दिल का अरमान इश्क है

आँखों के पानी से धुलकर
होठों की मुस्कान है इश्क है

नाम उसी का जहां में रहता
इश्क पे जो कुर्बान इश्क है

जां बन करके सभी में रहता
वहीं ख़ुदा भगवान इश्क है

Language: Hindi
2 Likes · 211 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mahendra Narayan
View all
You may also like:
कभी-कभी दिल को भी अपडेट कर लिया करो .......
कभी-कभी दिल को भी अपडेट कर लिया करो .......
shabina. Naaz
बोलती आँखे....
बोलती आँखे....
Santosh Soni
kab miloge piya - Desert Fellow Rakesh Yadav ( कब मिलोगे पिया )
kab miloge piya - Desert Fellow Rakesh Yadav ( कब मिलोगे पिया )
Desert fellow Rakesh
ना जमीं रखता हूॅ॑ ना आसमान रखता हूॅ॑
ना जमीं रखता हूॅ॑ ना आसमान रखता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
तेरे इंतज़ार में
तेरे इंतज़ार में
Surinder blackpen
समझ
समझ
Dinesh Kumar Gangwar
जिंदगी सितार हो गयी
जिंदगी सितार हो गयी
Mamta Rani
संघर्ष और निर्माण
संघर्ष और निर्माण
नेताम आर सी
चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी कई मायनों में खास होती है।
चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी कई मायनों में खास होती है।
Shashi kala vyas
*वोट हमें बनवाना है।*
*वोट हमें बनवाना है।*
Dushyant Kumar
गौतम बुद्ध है बड़े महान
गौतम बुद्ध है बड़े महान
Buddha Prakash
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
दंगे-फसाद
दंगे-फसाद
Shekhar Chandra Mitra
कुछ लिखूँ ....!!!
कुछ लिखूँ ....!!!
Kanchan Khanna
तुम ही तो हो
तुम ही तो हो
Ashish Kumar
परिवार, घड़ी की सूइयों जैसा होना चाहिए कोई छोटा हो, कोई बड़ा
परिवार, घड़ी की सूइयों जैसा होना चाहिए कोई छोटा हो, कोई बड़ा
ललकार भारद्वाज
ये कैसे आदमी है
ये कैसे आदमी है
gurudeenverma198
दिलो को जला दे ,लफ्ज़ो मैं हम वो आग रखते है ll
दिलो को जला दे ,लफ्ज़ो मैं हम वो आग रखते है ll
गुप्तरत्न
यादों की एक नई सहर. . . . .
यादों की एक नई सहर. . . . .
sushil sarna
गुरु श्रेष्ठ
गुरु श्रेष्ठ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जो भूलने बैठी तो, यादें और गहराने लगी।
जो भूलने बैठी तो, यादें और गहराने लगी।
Manisha Manjari
पितृ दिवस पर....
पितृ दिवस पर....
डॉ.सीमा अग्रवाल
हिंसा रोकना स्टेट पुलिस
हिंसा रोकना स्टेट पुलिस
*Author प्रणय प्रभात*
कभी यदि मिलना हुआ फिर से
कभी यदि मिलना हुआ फिर से
Dr Manju Saini
जब तक हयात हो
जब तक हयात हो
Dr fauzia Naseem shad
मारुति
मारुति
Kavita Chouhan
एक समझदार मां रोते हुए बच्चे को चुप करवाने के लिए प्रकृति के
एक समझदार मां रोते हुए बच्चे को चुप करवाने के लिए प्रकृति के
Dheerja Sharma
योगी
योगी
Dr.Pratibha Prakash
सहधर्मिणी
सहधर्मिणी
Bodhisatva kastooriya
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Loading...