Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Mar 2024 · 1 min read

गर्दिश का माहौल कहां किसी का किरदार बताता है.

गर्दिश का माहौल कहां किसी का किरदार बताता है.
हवाओं में आईना भी दीवार को हिलता दिखाता है

जिसे नहीं सुखा पाती कभी सूरज की तपिश …..
वह भी वे-मौसम की बारिशों में भीग जाता है…. |

वह पेड़ जिनको हम पतझड़ से लाए थे उठाकर
अभी खिल उठा है वह अब बहुत इतराता है……

जिसको उड़ने की बेखौफ तालीमें दी हमने……..
वह भी हमें अंगुली पकड़ कर चलना सिखाता है |

✍️कवि दीपक सरल

42 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरा कौन यहाँ 🙏
मेरा कौन यहाँ 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कठिन परिश्रम साध्य है, यही हर्ष आधार।
कठिन परिश्रम साध्य है, यही हर्ष आधार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
वो तुम्हारी पसंद को अपना मानता है और
वो तुम्हारी पसंद को अपना मानता है और
Rekha khichi
जिन्दगी के रंग
जिन्दगी के रंग
Santosh Shrivastava
दोहा त्रयी. . .
दोहा त्रयी. . .
sushil sarna
हिंदी शायरी का एंग्री यंग मैन
हिंदी शायरी का एंग्री यंग मैन
Shekhar Chandra Mitra
"Awakening by the Seashore"
Manisha Manjari
बस करो, कितना गिरोगे...
बस करो, कितना गिरोगे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
मेरी बेटी
मेरी बेटी
लक्ष्मी सिंह
बाल कविता: मोटर कार
बाल कविता: मोटर कार
Rajesh Kumar Arjun
हम शिक्षक
हम शिक्षक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मैं रचनाकार नहीं हूं
मैं रचनाकार नहीं हूं
Manjhii Masti
सफ़र से पार पाना चाहता हूँ।
सफ़र से पार पाना चाहता हूँ।
*Author प्रणय प्रभात*
16)”अनेक रूप माँ स्वरूप”
16)”अनेक रूप माँ स्वरूप”
Sapna Arora
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
उनकी ख्यालों की बारिश का भी,
उनकी ख्यालों की बारिश का भी,
manjula chauhan
👰🏾‍♀कजरेली👰🏾‍♀
👰🏾‍♀कजरेली👰🏾‍♀
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
दिन गुज़रते रहे रात होती रही।
दिन गुज़रते रहे रात होती रही।
डॉक्टर रागिनी
*** आकांक्षा : आसमान की उड़ान..! ***
*** आकांक्षा : आसमान की उड़ान..! ***
VEDANTA PATEL
Bundeli doha-fadali
Bundeli doha-fadali
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मैं भविष्य की चिंता में अपना वर्तमान नष्ट नहीं करता क्योंकि
मैं भविष्य की चिंता में अपना वर्तमान नष्ट नहीं करता क्योंकि
Rj Anand Prajapati
क्यों बदल जाते हैं लोग
क्यों बदल जाते हैं लोग
VINOD CHAUHAN
जीवन सुंदर खेल है, प्रेम लिए तू खेल।
जीवन सुंदर खेल है, प्रेम लिए तू खेल।
आर.एस. 'प्रीतम'
किशोरावस्था : एक चिंतन
किशोरावस्था : एक चिंतन
Shyam Sundar Subramanian
दो अक्षर का शब्द है , सबसे सुंदर प्रीत (कुंडलिया)
दो अक्षर का शब्द है , सबसे सुंदर प्रीत (कुंडलिया)
Ravi Prakash
भय के कारण सच बोलने से परहेज न करें,क्योंकि अन्त में जीत सच
भय के कारण सच बोलने से परहेज न करें,क्योंकि अन्त में जीत सच
Babli Jha
खवाब है तेरे तु उनको सजालें
खवाब है तेरे तु उनको सजालें
Swami Ganganiya
सच तो आज न हम न तुम हो
सच तो आज न हम न तुम हो
Neeraj Agarwal
"सम्बन्धों की ज्यामिति"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...