Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Feb 2023 · 1 min read

गम के बादल गये, आया मधुमास है।

गीत

गम के बादल गये, आया मधुमास है,
फिर ये चुपचाप रहने से क्या फायदा।
रंग औ’र अंग अब तो लगाओ प्रिये,
ऐसे होली मनाने से क्या फायदा। ……….गम के बादल

तुमसे ही मेरा तन मन हृदय जान है।
बीते सालों में देखी न मुस्कान है।
तुम जो मुस्काओगी फूल खिल जायेंगे।
फूलों पर फिर से भौंरे मचल जायेंगे।
आ गई है बसंती बहारें यहां,
फिर खिजां को बुलाने से क्या फायदा।…..गम के बादल गये

तीज त्यौहार खुशियों को खोया बहुत।
खो के मुस्कान बच्चों की रोया बहुत।
कितनी जिद से खिलौने मंगाए थे जो,
अब तलक भी कहां खेल पाए हैं वो।
खेलने दो सभी को ये दिल खोलकर,
रंग में भंग करने से क्या फायदा।……….गम के बादल गये

ठंडी ठंडी बसंती पवन चल रही।
गंध मादक हृदय को विकल कर रही‌।
अब तो मुमकिन न होगा ये रूकना मेरा।
लो ये तन मन हृदय रॅंग दिया सब तेरा।
रॅंग दिए गाल ‘प्रेमी’ गुलाबी तेरे।
बिन रॅंगे घर भी जाने से क्या फायदा।….गम के बादल गये

…….✍️ सत्य कुमार प्रेमी
स्वरचित एवं मौलिक।

Language: Hindi
Tag: गीत
204 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
3167.*पूर्णिका*
3167.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नकलची बच्चा
नकलची बच्चा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
देखो भालू आया
देखो भालू आया
अनिल "आदर्श"
🥀 *✍अज्ञानी की*🥀
🥀 *✍अज्ञानी की*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
13) “धूम्रपान-तम्बाकू निषेध”
13) “धूम्रपान-तम्बाकू निषेध”
Sapna Arora
#क्षणिका-
#क्षणिका-
*Author प्रणय प्रभात*
जब भी किसी कार्य को पूर्ण समर्पण के साथ करने के बाद भी असफलत
जब भी किसी कार्य को पूर्ण समर्पण के साथ करने के बाद भी असफलत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कभी सुलगता है, कभी उलझता  है
कभी सुलगता है, कभी उलझता है
Anil Mishra Prahari
बच्चे (कुंडलिया )
बच्चे (कुंडलिया )
Ravi Prakash
उस जैसा मोती पूरे समन्दर में नही है
उस जैसा मोती पूरे समन्दर में नही है
शेखर सिंह
मैं उनकी ज़फाएं सहे जा रहा हूॅं।
मैं उनकी ज़फाएं सहे जा रहा हूॅं।
सत्य कुमार प्रेमी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अपराध बोध (लघुकथा)
अपराध बोध (लघुकथा)
गुमनाम 'बाबा'
कब गुज़रा वो लड़कपन,
कब गुज़रा वो लड़कपन,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जमाना इस कदर खफा  है हमसे,
जमाना इस कदर खफा है हमसे,
Yogendra Chaturwedi
वाह ग़ालिब तेरे इश्क के फतवे भी कमाल है
वाह ग़ालिब तेरे इश्क के फतवे भी कमाल है
Vishal babu (vishu)
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
सदा सदाबहार हिंदी
सदा सदाबहार हिंदी
goutam shaw
कोई क्या करे
कोई क्या करे
Davina Amar Thakral
"सड़क"
Dr. Kishan tandon kranti
बाबुल का आंगन
बाबुल का आंगन
Mukesh Kumar Sonkar
ज़िंदगी के फ़लसफ़े
ज़िंदगी के फ़लसफ़े
Shyam Sundar Subramanian
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ठुकरा दिया है 'कल' ने आज मुझको
ठुकरा दिया है 'कल' ने आज मुझको
सिद्धार्थ गोरखपुरी
रखकर हाशिए पर हम हमेशा ही पढ़े गए
रखकर हाशिए पर हम हमेशा ही पढ़े गए
Shweta Soni
*डॉ अरुण कुमार शास्त्री*
*डॉ अरुण कुमार शास्त्री*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अधूरी मुलाकात
अधूरी मुलाकात
Neeraj Agarwal
रिश्तों में पड़ी सिलवटें
रिश्तों में पड़ी सिलवटें
Surinder blackpen
Stop use of Polythene-plastic
Stop use of Polythene-plastic
Tushar Jagawat
गाली भरी जिंदगी
गाली भरी जिंदगी
Dr MusafiR BaithA
Loading...