Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jan 2023 · 1 min read

ख्वाहिशों का अम्बार

आसुदा मिला कहाँ चाहतों से
किसी को अब तक।
बसर जितने में हो
उतनी ही दरकार है।
सोचता हूँ सब्र का दामन
पकड़ के रखूं क्योकि,
क़ल्ब में तमाम ख्वाहिशों का अम्बार है।
सतीश सृजन.

Language: Hindi
2 Likes · 147 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
2723.*पूर्णिका*
2723.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रूपेश को मिला
रूपेश को मिला "बेस्ट राईटर ऑफ द वीक सम्मान- 2023"
रुपेश कुमार
"अतितॄष्णा न कर्तव्या तॄष्णां नैव परित्यजेत्।
Mukul Koushik
संवेदना
संवेदना
नेताम आर सी
ज्ञान का अर्थ
ज्ञान का अर्थ
ओंकार मिश्र
विरह की वेदना
विरह की वेदना
surenderpal vaidya
शहर
शहर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
याद आती हैं मां
याद आती हैं मां
Neeraj Agarwal
*यदि चित्त शिवजी में एकाग्र नहीं है तो कर्म करने से भी क्या
*यदि चित्त शिवजी में एकाग्र नहीं है तो कर्म करने से भी क्या
Shashi kala vyas
* दिल का खाली  गराज है *
* दिल का खाली गराज है *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मैं कविता लिखता हूँ तुम कविता बनाती हो
मैं कविता लिखता हूँ तुम कविता बनाती हो
Awadhesh Singh
ज़मीर
ज़मीर
Shyam Sundar Subramanian
क़त्ल काफ़ी हैं यूँ तो सर उसके
क़त्ल काफ़ी हैं यूँ तो सर उसके
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
9-अधम वह आदमी की शक्ल में शैतान होता है
9-अधम वह आदमी की शक्ल में शैतान होता है
Ajay Kumar Vimal
गुनाहों के देवता तो हो सकते हैं
गुनाहों के देवता तो हो सकते हैं
Dheeru bhai berang
बढ़ी शय है मुहब्बत
बढ़ी शय है मुहब्बत
shabina. Naaz
बिना चले गन्तव्य को,
बिना चले गन्तव्य को,
sushil sarna
*भगवान के नाम पर*
*भगवान के नाम पर*
Dushyant Kumar
लला गृह की ओर चले, आयी सुहानी भोर।
लला गृह की ओर चले, आयी सुहानी भोर।
डॉ.सीमा अग्रवाल
लाभ की इच्छा से ही लोभ का जन्म होता है।
लाभ की इच्छा से ही लोभ का जन्म होता है।
Rj Anand Prajapati
कविता - 'टमाटर की गाथा
कविता - 'टमाटर की गाथा"
Anand Sharma
जिंदगी एक किराये का घर है।
जिंदगी एक किराये का घर है।
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
जीवात्मा
जीवात्मा
Mahendra singh kiroula
आज आप जिस किसी से पूछो कि आप कैसे हो? और क्या चल रहा है ज़िं
आज आप जिस किसी से पूछो कि आप कैसे हो? और क्या चल रहा है ज़िं
पूर्वार्थ
अनकहा
अनकहा
Madhu Shah
खयालात( कविता )
खयालात( कविता )
sandeep kumar Yadav
कैसे हो गया बेखबर तू , हमें छोड़कर जाने वाले
कैसे हो गया बेखबर तू , हमें छोड़कर जाने वाले
gurudeenverma198
मानवता
मानवता
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
22)”शुभ नवरात्रि”
22)”शुभ नवरात्रि”
Sapna Arora
जाने क्यों तुमसे मिलकर भी
जाने क्यों तुमसे मिलकर भी
Sunil Suman
Loading...