Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jul 2023 · 1 min read

खुश है हम आज क्यों

खुश है हम आज क्यों, दिल क्यों आज खुश हो गया।
क्या खबर इस दिल को आज, शायद कोई मिल गया।।
कोई मिल गया, हमको कोई मिल गया।———–(2)
खुश है हम आज क्यों—————–।।

पूछा नहीं हमने अभी, उससे वह कौन है।
यूं तो बहुत है हसीं, लेकिन अभी वह मौन है।।
लगता है वह अच्छा हमें, दिल भी उसपे आ गया।
कोई मिल गया, हमको कोई मिल गया।।———(2)
खुश हैं हम आज क्यों ———————–।।

महका है बालों में गजरा, पैरों में बजती है पायल।
मदहोश है उसकी निगाहें, कर दिया है दिल घायल।।
हमको भी ऐसा नशा हुआ है, प्यार उससे हो गया।
कोई मिल गया, हमको कोई मिल गया।।———-(2)
खुश हैं हम आज क्यों ————————।।

मिलकर बनायेंगे हम, घर यहाँ अपने सपनों का।
महका होगा हमारा चमन, साथ होगा जन्मों का।।
ना कभी बिछुड़ेंगे हम, ख्वाब हमारा यह हो गया।
कोई मिल गया, हमको कोई मिल गया।।———–(2)
खुश हैं हम आज क्यों ————————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
209 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिंदगी जीने का कुछ ऐसा अंदाज रक्खो !!
जिंदगी जीने का कुछ ऐसा अंदाज रक्खो !!
शेखर सिंह
"निर्णय आपका"
Dr. Kishan tandon kranti
*सुनकर खबर आँखों से आँसू बह रहे*
*सुनकर खबर आँखों से आँसू बह रहे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जग अंधियारा मिट रहा, उम्मीदों के संग l
जग अंधियारा मिट रहा, उम्मीदों के संग l
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
नींद
नींद
Diwakar Mahto
जीभ का कमाल
जीभ का कमाल
विजय कुमार अग्रवाल
प्यार का पंचनामा
प्यार का पंचनामा
Dr Parveen Thakur
दुश्मन को दहला न सके जो              खून   नहीं    वह   पानी
दुश्मन को दहला न सके जो खून नहीं वह पानी
Anil Mishra Prahari
परिस्थितियॉं बदल गईं ( लघु कथा)
परिस्थितियॉं बदल गईं ( लघु कथा)
Ravi Prakash
कुपमंडुक
कुपमंडुक
Rajeev Dutta
शिक्षक जब बालक को शिक्षा देता है।
शिक्षक जब बालक को शिक्षा देता है।
Kr. Praval Pratap Singh Rana
शीर्षक – फूलों सा महकना
शीर्षक – फूलों सा महकना
Sonam Puneet Dubey
एक समय बेकार पड़ा था
एक समय बेकार पड़ा था
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ग़ज़ल _ शरारत जोश में पुरज़ोर।
ग़ज़ल _ शरारत जोश में पुरज़ोर।
Neelofar Khan
मुहब्बत नहीं है आज
मुहब्बत नहीं है आज
Tariq Azeem Tanha
“ दुमका संस्मरण ” ( विजली ) (1958)
“ दुमका संस्मरण ” ( विजली ) (1958)
DrLakshman Jha Parimal
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कविता: सपना
कविता: सपना
Rajesh Kumar Arjun
इश्क़ कर लूं में किसी से वो वफादार कहा।
इश्क़ कर लूं में किसी से वो वफादार कहा।
Phool gufran
एक सांप तब तक किसी को मित्र बनाकर रखता है जब तक वह भूखा न हो
एक सांप तब तक किसी को मित्र बनाकर रखता है जब तक वह भूखा न हो
Rj Anand Prajapati
3555.💐 *पूर्णिका* 💐
3555.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
अतिथि देवोभवः
अतिथि देवोभवः
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मनुष्य और प्रकृति
मनुष्य और प्रकृति
Sanjay ' शून्य'
समीक्ष्य कृति: बोल जमूरे! बोल
समीक्ष्य कृति: बोल जमूरे! बोल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
संवेदनहीन
संवेदनहीन
अखिलेश 'अखिल'
भय, भाग्य और भरोसा (राहुल सांकृत्यायन के संग) / MUSAFIR BAITHA
भय, भाग्य और भरोसा (राहुल सांकृत्यायन के संग) / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
वक्त के इस भवंडर में
वक्त के इस भवंडर में
Harminder Kaur
बेशर्मी से रात भर,
बेशर्मी से रात भर,
sushil sarna
शोषण खुलकर हो रहा, ठेकेदार के अधीन।
शोषण खुलकर हो रहा, ठेकेदार के अधीन।
Anil chobisa
चूरचूर क्यों ना कर चुकी हो दुनिया,आज तूं ख़ुद से वादा कर ले
चूरचूर क्यों ना कर चुकी हो दुनिया,आज तूं ख़ुद से वादा कर ले
Nilesh Premyogi
Loading...