Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

खुश्बू जानी-पहचानी थी

मुद्दतों बाद वो दिखे मुझे,
पर अपनों की निगरानी थी,
खुश्बू जानी-पहचानी थी।

एक दिवस मैं गया था,
लेने कुछ सामान,
कोई बगल से गुजरा,
जिसकी खुश्बू थी आसान।
आगोश किसी का याद आया,
मन में अन्तर्नाद हुआ,
पीछे मुड़कर देखा तो,
थे अपने नाफ़र्मान।।

दिल में था प्रेमभाव और
कदमों की नातवानी थी।
खुश्बू जानी-पहचानी थी।

1 Like · 2 Comments · 150 Views
You may also like:
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
जागो राजू, जागो...
मनोज कर्ण
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सफलता कदम चूमेगी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आपको याद भी तो करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
गाँव की साँझ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
✍️प्यारी बिटिया ✍️
Vaishnavi Gupta
कोशिशें हों कि भूख मिट जाए ।
Dr fauzia Naseem shad
पिता का पता
श्री रमण 'श्रीपद्'
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
पिता
Neha Sharma
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
संकुचित हूं स्वयं में
Dr fauzia Naseem shad
बोझ
आकांक्षा राय
पिता
Shailendra Aseem
बहुत प्यार करता हूं तुमको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आदर्श पिता
Sahil
✍️स्कूल टाइम ✍️
Vaishnavi Gupta
गाऊँ तेरी महिमा का गान (हरिशयन एकादशी विशेष)
श्री रमण 'श्रीपद्'
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण 'श्रीपद्'
प्यार
Anamika Singh
*"पिता"*
Shashi kala vyas
नींद खो दी
Dr fauzia Naseem shad
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
Green Trees
Buddha Prakash
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
जीवन संगनी की विदाई
Ram Krishan Rastogi
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
Loading...