Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2023 · 1 min read

खुशी और गम

खुशी मेहमान है
तकलीफ घर है मेरा ……

हार से दोस्ती है
जीत डर है मेरा ……

मत दो उम्मीद
मुझे मुस्कुराने की

ये परेशानियां ही
अब सफर है मेरा …..

Language: Hindi
1 Like · 196 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मै तो हूं मद मस्त मौला
मै तो हूं मद मस्त मौला
नेताम आर सी
सच सोच ऊंची उड़ान की हो
सच सोच ऊंची उड़ान की हो
Neeraj Agarwal
जीवन के सुख दुख के इस चक्र में
जीवन के सुख दुख के इस चक्र में
ruby kumari
व्यर्थ विवाद की
व्यर्थ विवाद की
*Author प्रणय प्रभात*
बारिश पर लिखे अशआर
बारिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
विनती
विनती
Saraswati Bajpai
3152.*पूर्णिका*
3152.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"दुमका संस्मरण 3" परिवहन सेवा (1965)
DrLakshman Jha Parimal
ये बता दे तू किधर जाएंगे।
ये बता दे तू किधर जाएंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
हेेे जो मेरे पास
हेेे जो मेरे पास
Swami Ganganiya
चींटी रानी
चींटी रानी
Dr Archana Gupta
मित्रतापूर्ण कीजिए,
मित्रतापूर्ण कीजिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तुम से सुबह, तुम से शाम,
तुम से सुबह, तुम से शाम,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मिर्जा पंडित
मिर्जा पंडित
Harish Chandra Pande
--शेखर सिंह
--शेखर सिंह
शेखर सिंह
मर्यादा, संघर्ष और ईमानदारी,
मर्यादा, संघर्ष और ईमानदारी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
देशभक्ति एवं राष्ट्रवाद
देशभक्ति एवं राष्ट्रवाद
Shyam Sundar Subramanian
जब याद सताएगी,मुझको तड़पाएगी
जब याद सताएगी,मुझको तड़पाएगी
कृष्णकांत गुर्जर
मातृशक्ति
मातृशक्ति
Sanjay ' शून्य'
तुम्हारी बेवफाई देखकर अच्छा लगा
तुम्हारी बेवफाई देखकर अच्छा लगा
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
होली
होली
Neelam Sharma
*** शुक्रगुजार हूँ ***
*** शुक्रगुजार हूँ ***
Chunnu Lal Gupta
भैया  के माथे तिलक लगाने बहना आई दूर से
भैया के माथे तिलक लगाने बहना आई दूर से
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*तिरंगा (बाल कविता)*
*तिरंगा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
"बेचारा किसान"
Dharmjay singh
एकजुट हो प्रयास करें विशेष
एकजुट हो प्रयास करें विशेष
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*खुश रहना है तो जिंदगी के फैसले अपनी परिस्थिति को देखकर खुद
*खुश रहना है तो जिंदगी के फैसले अपनी परिस्थिति को देखकर खुद
Shashi kala vyas
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
gurudeenverma198
Loading...