Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jun 2023 · 1 min read

खुद में, खुद को, खुद ब खुद ढूंढ़ लूंगा मैं,

खुद में, खुद को, खुद ब खुद ढूंढ़ लूंगा मैं,
ये मैं ही तो हूँ……जो मुझमें हूँ…..
-सिद्धार्थ गोरखपुरी

1 Like · 458 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ना जमीं रखता हूॅ॑ ना आसमान रखता हूॅ॑
ना जमीं रखता हूॅ॑ ना आसमान रखता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
*नारी तुम गृह स्वामिनी, तुम जीवन-आधार (कुंडलिया)*
*नारी तुम गृह स्वामिनी, तुम जीवन-आधार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मुक्तक
मुक्तक
नूरफातिमा खातून नूरी
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
कीमती
कीमती
Naushaba Suriya
आत्मीय मुलाकात -
आत्मीय मुलाकात -
Seema gupta,Alwar
समाज या परिवार हो, मौजूदा परिवेश
समाज या परिवार हो, मौजूदा परिवेश
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
🙏
🙏
Neelam Sharma
परिणति
परिणति
Shyam Sundar Subramanian
कोई उम्मीद किसी से,तुम नहीं करो
कोई उम्मीद किसी से,तुम नहीं करो
gurudeenverma198
मेरी बातों का असर यार हल्का पड़ा उस पर
मेरी बातों का असर यार हल्का पड़ा उस पर
कवि दीपक बवेजा
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
राखी का कर्ज
राखी का कर्ज
Mukesh Kumar Sonkar
जब कैमरे काले हुआ करते थे तो लोगो के हृदय पवित्र हुआ करते थे
जब कैमरे काले हुआ करते थे तो लोगो के हृदय पवित्र हुआ करते थे
Rj Anand Prajapati
निराशा हाथ जब आए, गुरू बन आस आ जाए।
निराशा हाथ जब आए, गुरू बन आस आ जाए।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Live in Present
Live in Present
Satbir Singh Sidhu
सावनी श्यामल घटाएं
सावनी श्यामल घटाएं
surenderpal vaidya
सूनी बगिया हुई विरान ?
सूनी बगिया हुई विरान ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
माँ
माँ
श्याम सिंह बिष्ट
जितनी शिद्दत से
जितनी शिद्दत से
*Author प्रणय प्रभात*
सबके साथ हमें चलना है
सबके साथ हमें चलना है
DrLakshman Jha Parimal
खुद से भी सवाल कीजिए
खुद से भी सवाल कीजिए
Mahetaru madhukar
आयी प्यारी तीज है,झूलें मिलकर साथ
आयी प्यारी तीज है,झूलें मिलकर साथ
Dr Archana Gupta
अक्सर आकर दस्तक देती
अक्सर आकर दस्तक देती
Satish Srijan
2246.🌹इंसान हूँ इंसानियत की बात करता हूँ 🌹
2246.🌹इंसान हूँ इंसानियत की बात करता हूँ 🌹
Dr.Khedu Bharti
प्रेमी चील सरीखे होते हैं ;
प्रेमी चील सरीखे होते हैं ;
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
*कभी  प्यार में  कोई तिजारत ना हो*
*कभी प्यार में कोई तिजारत ना हो*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
किभी भी, किसी भी रूप में, किसी भी वजह से,
किभी भी, किसी भी रूप में, किसी भी वजह से,
शोभा कुमारी
ऊपर चढ़ता देख तुम्हें, मुमकिन मेरा खुश होना।
ऊपर चढ़ता देख तुम्हें, मुमकिन मेरा खुश होना।
सत्य कुमार प्रेमी
अगर.... किसीसे ..... असीम प्रेम करो तो इतना कर लेना की तुम्ह
अगर.... किसीसे ..... असीम प्रेम करो तो इतना कर लेना की तुम्ह
पूर्वार्थ
Loading...