Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2023 · 1 min read

खुद को मसखरा बनाया जिसने,

खुद को मसखरा बनाया जिसने,
रातभर मंच को सजाया जिसने।
थका था चुप था ग़मज़दा था वो,
भरी महफ़िल को खूब हंसाया जिसने।

-सतीश सृजन

1 Like · 255 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
मृदा मात्र गुबार नहीं हूँ
मृदा मात्र गुबार नहीं हूँ
AJAY AMITABH SUMAN
जीत मनु-विधान की / MUSAFIR BAITHA
जीत मनु-विधान की / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
بدلتا ہے
بدلتا ہے
Dr fauzia Naseem shad
तेरी धरती का खा रहे हैं हम
तेरी धरती का खा रहे हैं हम
नूरफातिमा खातून नूरी
जरूरत के हिसाब से ही
जरूरत के हिसाब से ही
Dr Manju Saini
🚩🚩 कृतिकार का परिचय/
🚩🚩 कृतिकार का परिचय/ "पं बृजेश कुमार नायक" का परिचय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
नरसिंह अवतार
नरसिंह अवतार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"परखना सीख जाओगे "
Slok maurya "umang"
*दासता जीता रहा यह, देश निज को पा गया (मुक्तक)*
*दासता जीता रहा यह, देश निज को पा गया (मुक्तक)*
Ravi Prakash
क्या कहना हिन्दी भाषा का
क्या कहना हिन्दी भाषा का
shabina. Naaz
🙏 गुरु चरणों की धूल🙏
🙏 गुरु चरणों की धूल🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अब प्यार का मौसम न रहा
अब प्यार का मौसम न रहा
Shekhar Chandra Mitra
भगवान
भगवान
Anil chobisa
31/05/2024
31/05/2024
Satyaveer vaishnav
Alahda tu bhi nhi mujhse,
Alahda tu bhi nhi mujhse,
Sakshi Tripathi
क्या होगा लिखने
क्या होगा लिखने
Suryakant Dwivedi
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कभी खुश भी हो जाते हैं हम
कभी खुश भी हो जाते हैं हम
Shweta Soni
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
*यदि चित्त शिवजी में एकाग्र नहीं है तो कर्म करने से भी क्या
*यदि चित्त शिवजी में एकाग्र नहीं है तो कर्म करने से भी क्या
Shashi kala vyas
लाश लिए फिरता हूं
लाश लिए फिरता हूं
Ravi Ghayal
वहाॅं कभी मत जाईये
वहाॅं कभी मत जाईये
Paras Nath Jha
मेरे प्रेम पत्र 3
मेरे प्रेम पत्र 3
विजय कुमार नामदेव
आजमाइश
आजमाइश
Suraj Mehra
हे गर्भवती !
हे गर्भवती !
Akash Yadav
ड़ माने कुछ नहीं
ड़ माने कुछ नहीं
Satish Srijan
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो
कवि दीपक बवेजा
*लाल सरहद* ( 13 of 25 )
*लाल सरहद* ( 13 of 25 )
Kshma Urmila
तेवरी का सौन्दर्य-बोध +रमेशराज
तेवरी का सौन्दर्य-बोध +रमेशराज
कवि रमेशराज
2923.*पूर्णिका*
2923.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...