Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Oct 2016 · 2 min read

खुदा की अनुपम कृति स्त्री

खुदा ने संसार में आकर्षण – विकर्षण का जो जाल रचा उसके पीछे प्रभु की इच्छा जीवन को सरल – सरस एवं जीने योग्य बना देना है यदि जीवन के इतने राग -रंग न होते तो जीवन कितना दूभर होता । बोझिल हो जाता एवं साठ -सत्तर वर्ष तक जीवन जीने की उत्कंठा सिमट कर शून्य पर आ जाती ।

रिश्ता कोई भी हो जीवन में मधुरता को घोल उसे समरस एवं जीने योग्य बनाता है रिश्तों के बीच पनपता प्यार न हो , तो अपनापन विकसित न हो, एक -दूजे के लिए कुछ कर गुजरने की , अपना त्याग देने की , बराबर कदम से कदम मिलाकर चलने की चाह न होती । इसी क्रम मे सृष्टा ने दुनियाँ को रचा और इस दुनियाँ में भी सबसे सुंदर सृष्टि जो की है वह “स्त्री ” ।
प्यार , कर्तव्य , निर्झरिणी सी सौम्य , सरलता की मूर्ति जिसमें मान मर्यादाओं को निभाते हुए कुछ करने की ललक है । नारी के बहुत से रूप है पुत्री ,बहिन , माँ , बुआ , चाची इत्यादि । नारी बंधन में बँधी भी है स्वतंत्र भी है पुरूष से कन्धे से कंधा मिला कर चलने वाली नारी हर क्षेत्र मे अपना परचम लहरा रही है ।
कभी नारी दुहिता के रुप में माता- पिता का आनन्द बढ़ाने वाली , तो भगिनी के रूप में भाई को आत्मसम्बल देने वाली , तो कहीं पति की भार्या बन कर जीवन संग्राम में बराबर से मोर्चा लेने वाली है शक्ति स्वरूपा नारी अहं की सीमा का अतिक्रमण होने पर काली भी बन जाती है ।
लेकिन समाज में नारी के प्रति अपराधों का ग्राफ जिस तीव्रता से बढ़ा है उससे नारी के प्रति पुरुष समाज की कुदृष्टि का पता लगता है । औरत से पैदा मर्द शायद स्त्री को प्रताड़ित करने में अपनी बहादुरी समझता है । शायद किसी दिन का अखबार स्त्री रेप , दहेज , स्त्री को मार दिये जाने की खवर से अछूते हो । कुकृत्य करने के बाद अपराधी कितनी सफाई से बच जाता है सराहनीय है ।

डॉ मधु त्रिवेदी

Language: Hindi
Tag: लेख
67 Likes · 499 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR.MDHU TRIVEDI
View all
You may also like:
क़िताबों से मुहब्बत कर तुझे ज़न्नत दिखा देंगी
क़िताबों से मुहब्बत कर तुझे ज़न्नत दिखा देंगी
आर.एस. 'प्रीतम'
मौसम आया फाग का,
मौसम आया फाग का,
sushil sarna
* मन में कोई बात न रखना *
* मन में कोई बात न रखना *
surenderpal vaidya
दिवाकर उग गया देखो,नवल आकाश है हिंदी।
दिवाकर उग गया देखो,नवल आकाश है हिंदी।
Neelam Sharma
स्मृति शेष अटल
स्मृति शेष अटल
कार्तिक नितिन शर्मा
हे परम पिता परमेश्वर,जग को बनाने वाले
हे परम पिता परमेश्वर,जग को बनाने वाले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
🍁🌹🖤🌹🍁
🍁🌹🖤🌹🍁
शेखर सिंह
हरमन प्यारा : सतगुरु अर्जुन देव
हरमन प्यारा : सतगुरु अर्जुन देव
Satish Srijan
3089.*पूर्णिका*
3089.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*मंज़िल पथिक और माध्यम*
*मंज़िल पथिक और माध्यम*
Lokesh Singh
तुम्हारा दिल ही तुम्हे आईना दिखा देगा
तुम्हारा दिल ही तुम्हे आईना दिखा देगा
VINOD CHAUHAN
महायज्ञ।
महायज्ञ।
Acharya Rama Nand Mandal
मिष्ठी के लिए सलाद
मिष्ठी के लिए सलाद
Manu Vashistha
गौरैया दिवस
गौरैया दिवस
Surinder blackpen
उम्मीद
उम्मीद
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
*धारा सत्तर तीन सौ, अब अतीत का काल (कुंडलिया)*
*धारा सत्तर तीन सौ, अब अतीत का काल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
💐प्रेम कौतुक-324💐
💐प्रेम कौतुक-324💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुम्हारी आँखें कमाल आँखें
तुम्हारी आँखें कमाल आँखें
Anis Shah
समय ⏳🕛⏱️
समय ⏳🕛⏱️
डॉ० रोहित कौशिक
Tum khas ho itne yar ye  khabar nhi thi,
Tum khas ho itne yar ye khabar nhi thi,
Sakshi Tripathi
"एल्बम"
Dr. Kishan tandon kranti
राहत के दीए
राहत के दीए
Dr. Pradeep Kumar Sharma
खुद के हाथ में पत्थर,दिल शीशे की दीवार है।
खुद के हाथ में पत्थर,दिल शीशे की दीवार है।
Priya princess panwar
एक पराई नार को 💃🏻
एक पराई नार को 💃🏻
Yash mehra
एक महिला अपनी उतनी ही बात को आपसे छिपाकर रखती है जितनी की वह
एक महिला अपनी उतनी ही बात को आपसे छिपाकर रखती है जितनी की वह
Rj Anand Prajapati
बेगुनाह कोई नहीं है इस दुनिया में...
बेगुनाह कोई नहीं है इस दुनिया में...
Radhakishan R. Mundhra
अब की बार पत्थर का बनाना ए खुदा
अब की बार पत्थर का बनाना ए खुदा
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
*याद  तेरी  यार  आती है*
*याद तेरी यार आती है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
***
*** " ये दरारों पर मेरी नाव.....! " ***
VEDANTA PATEL
बनारस की ढलती शाम,
बनारस की ढलती शाम,
Sahil Ahmad
Loading...