Oct 3, 2016 · 2 min read

खुदा की अनुपम कृति स्त्री

खुदा ने संसार में आकर्षण – विकर्षण का जो जाल रचा उसके पीछे प्रभु की इच्छा जीवन को सरल – सरस एवं जीने योग्य बना देना है यदि जीवन के इतने राग -रंग न होते तो जीवन कितना दूभर होता । बोझिल हो जाता एवं साठ -सत्तर वर्ष तक जीवन जीने की उत्कंठा सिमट कर शून्य पर आ जाती ।

रिश्ता कोई भी हो जीवन में मधुरता को घोल उसे समरस एवं जीने योग्य बनाता है रिश्तों के बीच पनपता प्यार न हो , तो अपनापन विकसित न हो, एक -दूजे के लिए कुछ कर गुजरने की , अपना त्याग देने की , बराबर कदम से कदम मिलाकर चलने की चाह न होती । इसी क्रम मे सृष्टा ने दुनियाँ को रचा और इस दुनियाँ में भी सबसे सुंदर सृष्टि जो की है वह “स्त्री ” ।
प्यार , कर्तव्य , निर्झरिणी सी सौम्य , सरलता की मूर्ति जिसमें मान मर्यादाओं को निभाते हुए कुछ करने की ललक है । नारी के बहुत से रूप है पुत्री ,बहिन , माँ , बुआ , चाची इत्यादि । नारी बंधन में बँधी भी है स्वतंत्र भी है पुरूष से कन्धे से कंधा मिला कर चलने वाली नारी हर क्षेत्र मे अपना परचम लहरा रही है ।
कभी नारी दुहिता के रुप में माता- पिता का आनन्द बढ़ाने वाली , तो भगिनी के रूप में भाई को आत्मसम्बल देने वाली , तो कहीं पति की भार्या बन कर जीवन संग्राम में बराबर से मोर्चा लेने वाली है शक्ति स्वरूपा नारी अहं की सीमा का अतिक्रमण होने पर काली भी बन जाती है ।
लेकिन समाज में नारी के प्रति अपराधों का ग्राफ जिस तीव्रता से बढ़ा है उससे नारी के प्रति पुरुष समाज की कुदृष्टि का पता लगता है । औरत से पैदा मर्द शायद स्त्री को प्रताड़ित करने में अपनी बहादुरी समझता है । शायद किसी दिन का अखबार स्त्री रेप , दहेज , स्त्री को मार दिये जाने की खवर से अछूते हो । कुकृत्य करने के बाद अपराधी कितनी सफाई से बच जाता है सराहनीय है ।

डॉ मधु त्रिवेदी

67 Likes · 265 Views
You may also like:
🌺🌺दोषदृष्टया: साधके प्रभावः🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जहां चाह वहां राह
ओनिका सेतिया 'अनु '
चश्मे-तर जिन्दगी
Dr. Sunita Singh
पानी यौवन मूल
Jatashankar Prajapati
कुछ भी ना साथ रहता है।
Taj Mohammad
हिन्दुस्तान की पहचान(मुक्तक)
Prabhudayal Raniwal
कवि का परिचय( पं बृजेश कुमार नायक का परिचय)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"मुश्किल वक़्त और दोस्त"
Lohit Tamta
नींबू के मन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
अप्सरा
Nafa writer
सुकून सा ऐहसास...
Dr. Alpa H.
माखन चोर
N.ksahu0007@writer
पापा आप बहुत याद आते हो।
Taj Mohammad
पिता अम्बर हैं इस धारा का
Nitu Sah
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
राम नाम ही परम सत्य है।
Anamika Singh
दलीलें झूठी हो सकतीं हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सुंदर सृष्टि है पिता।
Taj Mohammad
एक ख़्वाब।
Taj Mohammad
एक थे वशिष्ठ
Suraj Kushwaha
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
बॉर्डर पर किसान
Shriyansh Gupta
【1】 साईं भजन { दिल दीवाने का डोला }
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
साहित्यकारों से
Rakesh Pathak Kathara
कल जब हम तुमसे मिलेंगे
Saraswati Bajpai
धर्म बला है...?
मनोज कर्ण
“मोह मोह”…….”ॐॐ”….
Piyush Goel
नियत मे पर्दा
Vikas Sharma'Shivaaya'
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
वेदना
Archana Shukla "Abhidha"
Loading...