Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2023 · 1 min read

खुदसे ही लड़ रहे हैं।

बे मकसद की ये जिन्दगी जी रहे हैं।
इक मुद्दत से हम खुदसे ही लड़ रहे हैं।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

Language: Hindi
Tag: शेर
1 Like · 92 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शायरी
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
हम जितने ही सहज होगें,
हम जितने ही सहज होगें,
लक्ष्मी सिंह
दोहा-
दोहा-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
स्वाभिमान
स्वाभिमान
Shyam Sundar Subramanian
💐प्रेम कौतुक-517💐
💐प्रेम कौतुक-517💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कलम की ताकत और कीमत को
कलम की ताकत और कीमत को
Aarti Ayachit
जीवन है पीड़ा, क्यों द्रवित हो
जीवन है पीड़ा, क्यों द्रवित हो
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चाय पे चर्चा
चाय पे चर्चा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
***
*** " कभी-कभी...! " ***
VEDANTA PATEL
चांद कहां रहते हो तुम
चांद कहां रहते हो तुम
Surinder blackpen
"श्रृंगारिका"
Ekta chitrangini
जिन्दगी की धूप में शीतल सी छाव है मेरे बाऊजी
जिन्दगी की धूप में शीतल सी छाव है मेरे बाऊजी
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)
#कटाक्ष
#कटाक्ष
*Author प्रणय प्रभात*
उसी पथ से
उसी पथ से
Kavita Chouhan
ऐसा क्यों होता है
ऐसा क्यों होता है
रोहताश वर्मा मुसाफिर
फिर भी तो बाकी है
फिर भी तो बाकी है
gurudeenverma198
ना आप.. ना मैं...
ना आप.. ना मैं...
'अशांत' शेखर
आसान नहीं होता...
आसान नहीं होता...
Dr. Seema Varma
🤗🤗क्या खोजते हो दुनिता में  जब सब कुछ तेरे अन्दर है क्यों दे
🤗🤗क्या खोजते हो दुनिता में जब सब कुछ तेरे अन्दर है क्यों दे
Swati
#दोहे
#दोहे
आर.एस. 'प्रीतम'
एक उम्र तक सवालों का
एक उम्र तक सवालों का
Khushboo Khatoon
It is very simple to be happy, but it is very difficult to b
It is very simple to be happy, but it is very difficult to b
Dr. Rajiv
जिंदगी की पहेली
जिंदगी की पहेली
RAKESH RAKESH
चम-चम चमके, गोरी गलिया, मिल खेले, सब सखियाँ
चम-चम चमके, गोरी गलिया, मिल खेले, सब सखियाँ
Er.Navaneet R Shandily
*ले औषधि संजीवनी, आए रातों-रात (कुछ दोहे)*
*ले औषधि संजीवनी, आए रातों-रात (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
पेंशन प्रकरणों में देरी, लापरवाही, संवेदनशीलता नहीं रखने बाल
पेंशन प्रकरणों में देरी, लापरवाही, संवेदनशीलता नहीं रखने बाल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
फुटपाथ
फुटपाथ
Prakash Chandra
नारी जीवन की धारा
नारी जीवन की धारा
Buddha Prakash
सबसे बड़ा गम है गरीब का
सबसे बड़ा गम है गरीब का
Dr fauzia Naseem shad
कठिन परिश्रम साध्य है, यही हर्ष आधार।
कठिन परिश्रम साध्य है, यही हर्ष आधार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Loading...