Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2017 · 1 min read

खाली हाँथ आया था

खाली हाँथ आया था खाली चला गया

गुलशन से मायूस होकर माली चला गया

कदमोँ मेँ जिसके डाल दी सारे जहाँ की नेमतेँ

वही आज मुझको देकर गाली चला गया

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
252 Views
You may also like:
मां
मां
Ankita Patel
गुमनाम
गुमनाम
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
' प्यार करने मैदान में उतरा तो नही जीत पाऊंगा' ❤️
' प्यार करने मैदान में उतरा तो नही जीत पाऊंगा'...
Rohit yadav
मिट्टी के दीप जलाना
मिट्टी के दीप जलाना
Yash Tanha Shayar Hu
■ दिल्ली का फैक्ट*😅😅
■ दिल्ली का फैक्ट*😅😅
*Author प्रणय प्रभात*
✍️सियासत का है कारोबार
✍️सियासत का है कारोबार
'अशांत' शेखर
#  कर्म श्रेष्ठ या धर्म  ??
# कर्म श्रेष्ठ या धर्म ??
Seema Verma
अक्सर आकर दस्तक देती
अक्सर आकर दस्तक देती
Satish Srijan
अब न पछताओगी तुम हमसे मिलके
अब न पछताओगी तुम हमसे मिलके
Ram Krishan Rastogi
Thought
Thought
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
मुक्तामणि, मुक्तामुक्तक
मुक्तामणि, मुक्तामुक्तक
muktatripathi75@yahoo.com
औरत औकात
औरत औकात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दुल्हन
दुल्हन
Kavita Chouhan
इतिहास और साहित्य
इतिहास और साहित्य
Buddha Prakash
खुदगर्ज दुनियाँ मे
खुदगर्ज दुनियाँ मे
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
आग लगा दो पर्दे में
आग लगा दो पर्दे में
Shekhar Chandra Mitra
-- बेशर्मी बढ़ी --
-- बेशर्मी बढ़ी --
गायक और लेखक अजीत कुमार तलवार
आज का मानव
आज का मानव
Shyam Sundar Subramanian
✍️गुमसुम सी रातें ✍️
✍️गुमसुम सी रातें ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
बिछड़ जाता है
बिछड़ जाता है
Dr fauzia Naseem shad
तेरे मेरे रिश्ते को मैं क्या नाम दूं।
तेरे मेरे रिश्ते को मैं क्या नाम दूं।
Taj Mohammad
नववर्ष
नववर्ष
Vandana Namdev
कितना ठंडा है नदी का पानी लेकिन
कितना ठंडा है नदी का पानी लेकिन
कवि दीपक बवेजा
*आज अयोध्या में लौटे,दशरथनंदन श्रीराम (गीत)*
*आज अयोध्या में लौटे,दशरथनंदन श्रीराम (गीत)*
Ravi Prakash
जब चांद चमक रहा था मेरे घर के सामने
जब चांद चमक रहा था मेरे घर के सामने
shabina. Naaz
अपने पथ आगे बढ़े
अपने पथ आगे बढ़े
Vishnu Prasad 'panchotiya'
"लोग क्या सोचेंगे?"
Pravesh Shinde
दिल में आने लगे हैं
दिल में आने लगे हैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
💐अज्ञात के प्रति-120💐
💐अज्ञात के प्रति-120💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हम भी रूठ जायेंगे
हम भी रूठ जायेंगे
Surinder blackpen
Loading...