Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Oct 2023 · 1 min read

“खामोशी की गहराईयों में”

खामोशी, जो अक्सर शब्दों से अधिक कहती है, उसका एक अपना आलम होता है। यह वो भाषा है जिससे हम अपने भीतर के अनगिनत भावनाओं को व्यक्त करते हैं, बिना एक शब्द बोले। खामोशी की गहराइयों में छुपी हर धडकन अपनी कहानी सुनाती है, बिना किसी शोर शराबे के।

वक़्त के साथ, हम अपने आत्मा की गहराइयों में उलझे हुए ख्वाबों की खोज में खो जाते हैं। खामोशी की वो सुकूनभरी सिरीसृप हमें हमारे असली अर्थ को समझने की कला सिखाती है।

जब हम खामोशी में खो जाते हैं, तब हमारी आत्मा नये आयाम तक पहुँचती है। यह वो समय होता है जब हम अपने अंतर्निहित आत्मज्ञान का खोजने में जुटे रहते हैं, और हमारे आस-पास की गलियों में छुपे रहस्यों को समझने की कोशिश करते हैं।

खामोशी वक़्त की मुद्रा होती है, जो हमारी असीम भावनाओं को सुनती है और समय की गति को समझने में मदद करती है। इसीलिए, कभी-कभी खामोशी की आलोचना करने की बजाय, हमें उसके सुनने का समय देना चाहिए, क्योंकि वह हमें हमारे अपने आप से जुड़ने की सीख देती है।।

1 Like · 215 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"मित्रता"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
देख रहा था पीछे मुड़कर
देख रहा था पीछे मुड़कर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
💐प्रेम कौतुक-401💐
💐प्रेम कौतुक-401💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कुछ नींदों से अच्छे-खासे ख़्वाब उड़ जाते हैं,
कुछ नींदों से अच्छे-खासे ख़्वाब उड़ जाते हैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
* वक्त  ही वक्त  तन में रक्त था *
* वक्त ही वक्त तन में रक्त था *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
पूछो हर किसी सेआजकल  जिंदगी का सफर
पूछो हर किसी सेआजकल जिंदगी का सफर
पूर्वार्थ
कायम रखें उत्साह
कायम रखें उत्साह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
2654.पूर्णिका
2654.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जब स्वयं के तन पर घाव ना हो, दर्द समझ नहीं आएगा।
जब स्वयं के तन पर घाव ना हो, दर्द समझ नहीं आएगा।
Manisha Manjari
मईया के आने कि आहट
मईया के आने कि आहट
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ग़ज़ल/नज़्म - मेरे महबूब के दीदार में बहार बहुत हैं
ग़ज़ल/नज़्म - मेरे महबूब के दीदार में बहार बहुत हैं
अनिल कुमार
*चौदह अगस्त को मंथन से,निकला सिर्फ हलाहल था
*चौदह अगस्त को मंथन से,निकला सिर्फ हलाहल था
Ravi Prakash
बचपन की यादें
बचपन की यादें
Neeraj Agarwal
किसी की तारीफ़ करनी है तो..
किसी की तारीफ़ करनी है तो..
Brijpal Singh
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
रामराज्य
रामराज्य
Suraj Mehra
धर्म वर्ण के भेद बने हैं प्रखर नाम कद काठी हैं।
धर्म वर्ण के भेद बने हैं प्रखर नाम कद काठी हैं।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
Lambi khamoshiyo ke bad ,
Lambi khamoshiyo ke bad ,
Sakshi Tripathi
विजय हजारे
विजय हजारे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
Rj Anand Prajapati
एक कुंडलिया
एक कुंडलिया
SHAMA PARVEEN
__सुविचार__
__सुविचार__
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
रख हौसला, कर फैसला, दृढ़ निश्चय के साथ
रख हौसला, कर फैसला, दृढ़ निश्चय के साथ
Krishna Manshi
जीवनमंथन
जीवनमंथन
Shyam Sundar Subramanian
"डूबना"
Dr. Kishan tandon kranti
#आज_का_मुक्तक
#आज_का_मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
सुप्रभातम
सुप्रभातम
Ravi Ghayal
विलीन
विलीन
sushil sarna
भारत की दुर्दशा
भारत की दुर्दशा
Shekhar Chandra Mitra
Loading...