Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Oct 2023 · 1 min read

ख़ून इंसानियत का

खून इंसानियत का रिसता है।
ज़ुल्म हद से जब गुज़रता है ।।
डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
5 Likes · 113 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
किसी से उम्मीद
किसी से उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
अभी और कभी
अभी और कभी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरी शायरी
मेरी शायरी
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मस्ती हो मौसम में तो,पिचकारी अच्छी लगती है (हिंदी गजल/गीतिका
मस्ती हो मौसम में तो,पिचकारी अच्छी लगती है (हिंदी गजल/गीतिका
Ravi Prakash
जब अपनी बात होती है,तब हम हमेशा सही होते हैं। गलत रहने के बा
जब अपनी बात होती है,तब हम हमेशा सही होते हैं। गलत रहने के बा
Paras Nath Jha
गीत
गीत
Shiva Awasthi
फितरत
फितरत
Dr.Priya Soni Khare
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
कीमत
कीमत
Ashwani Kumar Jaiswal
♤⛳मातृभाषा हिन्दी हो⛳♤
♤⛳मातृभाषा हिन्दी हो⛳♤
SPK Sachin Lodhi
जब नयनों में उत्थान के प्रकाश की छटा साफ दर्शनीय हो, तो व्यर
जब नयनों में उत्थान के प्रकाश की छटा साफ दर्शनीय हो, तो व्यर
Sukoon
हुआ जो मिलन, बाद मुद्दत्तों के, हम बिखर गए,
हुआ जो मिलन, बाद मुद्दत्तों के, हम बिखर गए,
डी. के. निवातिया
मार नहीं, प्यार करो
मार नहीं, प्यार करो
Shekhar Chandra Mitra
जीयो
जीयो
Sanjay ' शून्य'
नीर
नीर
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मंजिल नई नहीं है
मंजिल नई नहीं है
Pankaj Sen
"अजीज"
Dr. Kishan tandon kranti
ईश्वरीय प्रेरणा के पुरुषार्थ
ईश्वरीय प्रेरणा के पुरुषार्थ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
देह धरे का दण्ड यह,
देह धरे का दण्ड यह,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
पुष्प सम तुम मुस्कुराओ तो जीवन है ।
पुष्प सम तुम मुस्कुराओ तो जीवन है ।
Neelam Sharma
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Dr. Sunita Singh
💐प्रेम कौतुक-167💐
💐प्रेम कौतुक-167💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जिनके होंठों पर हमेशा मुस्कान रहे।
जिनके होंठों पर हमेशा मुस्कान रहे।
Phool gufran
4- हिन्दी दोहा बिषय- बालक
4- हिन्दी दोहा बिषय- बालक
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
एक तू ही नहीं बढ़ रहा , मंजिल की तरफ
एक तू ही नहीं बढ़ रहा , मंजिल की तरफ
कवि दीपक बवेजा
*रेल हादसा*
*रेल हादसा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2812. *पूर्णिका*
2812. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#महसूस_करें...
#महसूस_करें...
*Author प्रणय प्रभात*
प्रेम.....
प्रेम.....
हिमांशु Kulshrestha
Loading...