Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Feb 2024 · 1 min read

ख़त्म होने जैसा

ख़त्म होने जैसा
ज़िंदगी में
कुछ नहीं होता,
हर नई सुबह
हर नई शुरुआत
के लिए
इंतजार में है।

1 Like · 73 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मिलने को उनसे दिल तो बहुत है बेताब मेरा
मिलने को उनसे दिल तो बहुत है बेताब मेरा
gurudeenverma198
Ye chad adhura lagta hai,
Ye chad adhura lagta hai,
Sakshi Tripathi
दर्द जो आंखों से दिखने लगा है
दर्द जो आंखों से दिखने लगा है
Surinder blackpen
जख्म हरे सब हो गए,
जख्म हरे सब हो गए,
sushil sarna
हुनर पे शायरी
हुनर पे शायरी
Vijay kumar Pandey
#लघु_कविता
#लघु_कविता
*Author प्रणय प्रभात*
*बूढ़ा दरख्त गाँव का *
*बूढ़ा दरख्त गाँव का *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तालाश
तालाश
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*जीवन-साथी (कुंडलिया)*
*जीवन-साथी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
स्मृति प्रेम की
स्मृति प्रेम की
Dr. Kishan tandon kranti
Sometimes you shut up not
Sometimes you shut up not
Vandana maurya
खुद्दार
खुद्दार
अखिलेश 'अखिल'
क्यों गए थे ऐसे आतिशखाने में ,
क्यों गए थे ऐसे आतिशखाने में ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
ग़ज़ल/नज़्म - प्यार के ख्वाबों को दिल में सजा लूँ तो क्या हो
ग़ज़ल/नज़्म - प्यार के ख्वाबों को दिल में सजा लूँ तो क्या हो
अनिल कुमार
** लिख रहे हो कथा **
** लिख रहे हो कथा **
surenderpal vaidya
किछ पन्नाके छै ई जिनगीहमरा हाथमे कलम नइँमेटाैना थमाएल गेल अछ
किछ पन्नाके छै ई जिनगीहमरा हाथमे कलम नइँमेटाैना थमाएल गेल अछ
गजेन्द्र गजुर ( Gajendra Gajur )
उस दिन पर लानत भेजता  हूं,
उस दिन पर लानत भेजता हूं,
Vishal babu (vishu)
आपको देखते ही मेरे निगाहें आप पर आके थम जाते हैं
आपको देखते ही मेरे निगाहें आप पर आके थम जाते हैं
Sukoon
तू मुझे क्या समझेगा
तू मुझे क्या समझेगा
Arti Bhadauria
मेरा सुकून....
मेरा सुकून....
Srishty Bansal
*
*"बसंत पंचमी"*
Shashi kala vyas
नादान बनों
नादान बनों
Satish Srijan
💐प्रेम कौतुक-324💐
💐प्रेम कौतुक-324💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
करुणामयि हृदय तुम्हारा।
करुणामयि हृदय तुम्हारा।
Buddha Prakash
उत्कृष्ट सृजना ईश्वर की, नारी सृष्टि में आई
उत्कृष्ट सृजना ईश्वर की, नारी सृष्टि में आई
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
3245.*पूर्णिका*
3245.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हर बात पे ‘अच्छा’ कहना…
हर बात पे ‘अच्छा’ कहना…
Keshav kishor Kumar
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
वो खूबसूरत है
वो खूबसूरत है
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-146 के चयनित दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-146 के चयनित दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...