Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Nov 2019 · 4 min read

खट्टे-मीठे सच्चे बच्चे

खट्टे-मीठे-सच्चे-बच्चे
————————–

‘बच्चे मन के सच्चे, सारी जग के आंख के तारे…ये वो नन्हे फूल हैं जो, भगवान को लगते प्यारे.. ‘

बच्चों के बचपन और भोलेपन को परिभाषित करते इस गीत की ये पंक्तिया हमें ये अहसास दिलाने को लिए काफी हैं कि भगवान का ही दूसरा रूप ये बच्चे होते हैं.

‘जितनी बुरी कही जाती है उतनी बुरी नहीं है दुनिया
बच्चों के स्कूल में शायद तुम से मिली नहीं है दुनिया…’
-निदा फ़ाज़ली

कितना सही लिखा न फाजली जी ने !
आज मन हुआ कि इन बच्चों के बारे में बातें की जाएं|

ये भोले भाले, मन के सच्चे बच्चे पूरा दिन धमाचौकड़ी मचा-मचा कर हमें जहां परेशान हाल करे डालते हैं वहीं कहीं न कहीं उनकी इन्ही शरारतों में हम बड़ों की दुनिया के लिए कई सबक भी छिपे होते हैं|
हमारे यही मासूम कभी -कभी अपने सहज भोलेपन में देखिए न कई बार ऐसे काम कर जाते हैं जो हम बड़ों की दुनिया को सोचने पर मजबूर कर देते हैं|

कहा जाता है कि बच्चों के मन में छल-कपट, ईर्ष्या-द्वेष नहीं होता। वे तो बस भावुक, ईमानदार, सच्चे, और सरल हृदय होते हैं।शायद इसीलिए ही उन्हें भगवान का रूप माना जाता है।
अब तो लगता है कि इन मासूम,सरल बच्चों के मन में हम बड़े लोग ही जहर घोलकर इन्हें समय से पहले बड़ा बनाने का अक्षम्य अपराध यदा कदा करते रहते हैं। हमें उनका बचपना बरकरार करने के लिए हर संभव कोशिश करती रहनी होगी | उनके बचपने में किए गए कामों पर फटकार लगाने की बजाय, समझना होगा कि यही तो बचपन की वो खासियत है जो इन्हें हमसे ज्यादा सरल और प्रसन्नचित् बनाती है|
ये बच्चे इतने सीधे होते हैं कि किसी की भी बात पर बिना सोचे-समझे आँख मूँदकर विश्वास कर लेते हैं |

बच्चों की मासूमियत उनके चेहरे से ही नहीं….कभी कभी उनकी छोटी छोटी हरकतों से भी दिल को छू जाती है ।
ये नटखट बच्चे कभी कभी अपनी बात मनवाने के लिए जिद पर भी अड़ जाते हैं और अगर गलती से उनकी किसी जिद को पूरा न किया जाए तो वे मुंह फुला लेते हैं और कुछ समय तक हम बड़ों से रूठे भी रहते हैं और फिर अपने आप ही थोड़े समय के बाद सब गुस्सा भूलकर फिर से पहले की तरह मस्त हो जाते हैं।
फिर कोई भी उन्हें देखकर यह नहीं कह सकता कि कुछ क्षण पहले वे हमसे गुस्सा थे। यही तो इन बच्चों की वो खास बात है जो बड़ों को इनसे अलग करती है। और सच मानिए बस यही एक कारण है कि ये बच्चे सबका दिल लुभाने में सफल रहते हैं और उन्हें अपना बना लेते हैं। और ये बच्चे किसी अजनबी के साथ भी थोड़ी ही देर में ऐसे घुलमिल जाते हैं, मानो कि हमेशा से उसके साथ रह रहे हों|

बच्चों को बड़ों की तरह रहने, उनके जैसे दिखने में भी बड़ा आनंद आता है| कभी पापा का स्कूटर चलाने की एक्टिंग , कभी मम्मी की तरह दुपट्टा पहनकर रसोई में से चाय लाने की एक्टिंग, कभी टीचर की तरह चश्मा और छड़ी लेकर आपकी क्लास लगाने की ऐक्टिंग… मतलब कि बच्चा एक और रूप अनेक |यही तो कमाल है इस बचपन का|
कभी इनसे गप्पें लगाकर देखिए… ये बड़ों के भी कान काट लेते हैं|जब इनसे बात करेंगे तो पता चल जाएगा कि ये तो हमसे ज्यादा जानकारी रखते हैं|

घर में यदि कोई बीमार हो जाए तो ये बिना कहे ही उनकी तिमारदारी में जुट जाते हैं। बार-बार छूकर बीमार का बुखार देखते हैं। उन्हें समय समय पर पानी, दवाई और फल देकर और उनके पास सारा समय बैठकर व गप्पे लगाकर उनका मन बहलाने का काम भी ये बढ़िया करते हैं। जिससे बिमार व्यक्ति को आराम के साथ साथ मनोरंजन भी मिलता है।

कभी कभी तो किसी दिन ये हमारी मदद करने के चक्कर में घर में इतना काम फैला देते हैं, इसके लिए उन्हें डाँट भी लगा दी जाती है। फिर भी वे अपने सेवाभाव वाली आदत को नहीं छोड़ते और अपनी ही धुन में मस्त मगन रहते हैं। थोड़ी देर के बाद फिर आ जाते हैं कोई दूसरा काम करने के लिए। जरा-सी शाबाशी मिलने पर फिर से फूले नही समाते|

घर में अगर कोई पालतू जानवर हो तो बस… उसके लालन-पालन की पूरी जिम्मेदारी बिना कहे ही ये बच्चे अपने ऊपर से लेते हैं |उनका खाना-पानी, घूमना-घुमाना, नहलाना, और साफ सफाई ये पूरी तन मन धन से करते हैं |
बाजार से पहले तो जिद करके खिलौने लाएंगे, फिर घर आते ही खिलौने का पोस्टमार्टम कर डालते हैं| और डांट पड़ने पर फिर से खिलौने के लिए जिद न करने की कसम खाते हैं, और अगले दिन फिर से कोई नया खिलौना मांग लेते हैं|

कुल मिलाकर ये बच्चे अपने व्यवहार से हम बड़ों को कहीं न कहीं हमें अपने भीतर झांक कर देखने को मजबूर करते हैं,जहां इतनी नफरत, द्वेष, प्रतिस्पर्धा,लालच और स्वार्थ भरा हुआ है|

हमें चाहिए कि बच्चों को उनके बचपन में ही जीने देने की कोशिश करनी चाहिए। उम्र से पहले समझाबुझा कर संजीदगी सिखाकर, उनका बचपन नहीं छीनना चाहिए।

बल्कि हो सके तो कुछ पल के लिए उनके आप को भी बच्चा बनकर अपने बचपन के नटखट, खूबसूरत लम्बे को याद कर लेना चाहिए।

और यदि इनके बचपन वाली ये सरलता,भोलापन और सच्चाई हम बड़ों वाली दुनिया भी सीख जाए तो यकीन मानिए कि ये संसार एक खुशनुमा स्वर्ग बन जाएगा !
-Sugyata
Video Credits Amreen
(Child Actress from New Delhi)

Language: Hindi
Tag: लेख
564 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भस्मासुर
भस्मासुर
आनन्द मिश्र
मुहब्बत की दुकान
मुहब्बत की दुकान
Shekhar Chandra Mitra
दोस्ती
दोस्ती
Shashi Dhar Kumar
रामराज्य
रामराज्य
Suraj Mehra
मैं क्यों याद करूँ उनको
मैं क्यों याद करूँ उनको
gurudeenverma198
Dr arun कुमार शास्त्री
Dr arun कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ताश के महल अब हम बनाते नहीं
ताश के महल अब हम बनाते नहीं
इंजी. संजय श्रीवास्तव
"सहारा"
Dr. Kishan tandon kranti
अंतर्राष्ट्रीय जल दिवस
अंतर्राष्ट्रीय जल दिवस
डॉ.सीमा अग्रवाल
कुछ लोग
कुछ लोग
Shweta Soni
■ स्वयं पर संयम लाभप्रद।
■ स्वयं पर संयम लाभप्रद।
*प्रणय प्रभात*
आती रजनी सुख भरी, इसमें शांति प्रधान(कुंडलिया)
आती रजनी सुख भरी, इसमें शांति प्रधान(कुंडलिया)
Ravi Prakash
गृहिणी (नील पदम् के दोहे)
गृहिणी (नील पदम् के दोहे)
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मन डूब गया
मन डूब गया
Kshma Urmila
कुछ जवाब शांति से दो
कुछ जवाब शांति से दो
पूर्वार्थ
खुश-आमदीद आपका, वल्लाह हुई दीद
खुश-आमदीद आपका, वल्लाह हुई दीद
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सूखा पेड़
सूखा पेड़
Juhi Grover
संवेदनहीन
संवेदनहीन
अखिलेश 'अखिल'
अंतर
अंतर
Dr. Mahesh Kumawat
ग़र वो जानना चाहतें तो बताते हम भी,
ग़र वो जानना चाहतें तो बताते हम भी,
ओसमणी साहू 'ओश'
💐💐मरहम अपने जख्मों पर लगा लेते खुद ही...
💐💐मरहम अपने जख्मों पर लगा लेते खुद ही...
Priya princess panwar
स्वयंसिद्धा
स्वयंसिद्धा
ऋचा पाठक पंत
चंद्रयान तीन अंतरिक्ष पार
चंद्रयान तीन अंतरिक्ष पार
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ब्रज के एक सशक्त हस्ताक्षर लोककवि रामचरन गुप्त +प्रोफेसर अशोक द्विवेदी
ब्रज के एक सशक्त हस्ताक्षर लोककवि रामचरन गुप्त +प्रोफेसर अशोक द्विवेदी
कवि रमेशराज
मेरा देश एक अलग ही रसते पे बढ़ रहा है,
मेरा देश एक अलग ही रसते पे बढ़ रहा है,
नेताम आर सी
मुक्तक - वक़्त
मुक्तक - वक़्त
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
भजलो राम राम राम सिया राम राम राम प्यारे राम
भजलो राम राम राम सिया राम राम राम प्यारे राम
Satyaveer vaishnav
मोहब्बत अनकहे शब्दों की भाषा है
मोहब्बत अनकहे शब्दों की भाषा है
Ritu Asooja
"परिवार एक सुखद यात्रा"
Ekta chitrangini
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Loading...