Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Nov 2022 · 1 min read

क्षमा

क्षमा का घर है
पौरुष, विशाल हृदय,
शील और मनुजता ।
क्षुद्र हृदय, कापुरुष,
अभिमानी हृदय में
ये झांकती भी नहीं ।
समदर्शी संतो, विनम्र
धर्मशील मनुजों की
क्षमा चेरी भी बन जाती है
जिसकी सेवा से वे
नित्य प्रखर होते जाते हैं।
किन्तु कभी-कभी
दण्ड अपरिहार्य हो जाता
तब भी दोषी के प्रति
अपने मन में कोई गाँठ न बांधना
यह गाँठ तुम्हें स्वयं में जकड़ लेगी
इसीलिए
मन से उसे अवश्य क्षमा कर
स्वयं को मुक्त कर लेना।

3 Likes · 193 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Saraswati Bajpai
View all
You may also like:
यक्ष प्रश्न
यक्ष प्रश्न
Mamta Singh Devaa
चुनाव में मीडिया की भूमिका: राकेश देवडे़ बिरसावादी
चुनाव में मीडिया की भूमिका: राकेश देवडे़ बिरसावादी
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
दिल को एक बहाना होगा - Desert Fellow Rakesh Yadav
दिल को एक बहाना होगा - Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
कुछ खामोशियाँ तुम ले आना।
कुछ खामोशियाँ तुम ले आना।
Manisha Manjari
मौत के डर से सहमी-सहमी
मौत के डर से सहमी-सहमी
VINOD CHAUHAN
"" *माँ की ममता* ""
सुनीलानंद महंत
राम नाम अवलंब बिनु, परमारथ की आस।
राम नाम अवलंब बिनु, परमारथ की आस।
Satyaveer vaishnav
राधा कृष्ण होली भजन
राधा कृष्ण होली भजन
Khaimsingh Saini
हज़ारों साल
हज़ारों साल
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
जिंदगी में रंजो गम बेशुमार है
जिंदगी में रंजो गम बेशुमार है
इंजी. संजय श्रीवास्तव
श्वान संवाद
श्वान संवाद
Shyam Sundar Subramanian
मुझे वो एक शख्स चाहिये ओर उसके अलावा मुझे ओर किसी का होना भी
मुझे वो एक शख्स चाहिये ओर उसके अलावा मुझे ओर किसी का होना भी
yuvraj gautam
"रंग और पतंग"
Dr. Kishan tandon kranti
*
*"मजदूर"*
Shashi kala vyas
वक्त
वक्त
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Shweta Soni
समय के झूले पर
समय के झूले पर
पूर्वार्थ
इंसानियत
इंसानियत
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
"विक्रम" उतरा चाँद पर
Satish Srijan
महबूबा से
महबूबा से
Shekhar Chandra Mitra
3205.*पूर्णिका*
3205.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आप में आपका
आप में आपका
Dr fauzia Naseem shad
*कहते यद्यपि कर-कमल , गेंडे-जैसे हाथ
*कहते यद्यपि कर-कमल , गेंडे-जैसे हाथ
Ravi Prakash
सपना है आँखों में मगर नीद कही और है
सपना है आँखों में मगर नीद कही और है
Rituraj shivem verma
कभी भी व्यस्तता कहकर ,
कभी भी व्यस्तता कहकर ,
DrLakshman Jha Parimal
माँ तेरे आँचल तले...
माँ तेरे आँचल तले...
डॉ.सीमा अग्रवाल
प्यार के सिलसिले
प्यार के सिलसिले
Basant Bhagawan Roy
,✍️फरेब:आस्तीन के सांप बन गए हो तुम...
,✍️फरेब:आस्तीन के सांप बन गए हो तुम...
पं अंजू पांडेय अश्रु
बचपन अपना अपना
बचपन अपना अपना
Sanjay ' शून्य'
छत्तीसगढ़िया संस्कृति के चिन्हारी- हरेली तिहार
छत्तीसगढ़िया संस्कृति के चिन्हारी- हरेली तिहार
Mukesh Kumar Sonkar
Loading...