Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Nov 2022 · 1 min read

क्षमा

क्षमा का घर है
पौरुष, विशाल हृदय,
शील और मनुजता ।
क्षुद्र हृदय, कापुरुष,
अभिमानी हृदय में
ये झांकती भी नहीं ।
समदर्शी संतो, विनम्र
धर्मशील मनुजों की
क्षमा चेरी भी बन जाती है
जिसकी सेवा से वे
नित्य प्रखर होते जाते हैं।
किन्तु कभी-कभी
दण्ड अपरिहार्य हो जाता
तब भी दोषी के प्रति
अपने मन में कोई गाँठ न बांधना
यह गाँठ तुम्हें स्वयं में जकड़ लेगी
इसीलिए
मन से उसे अवश्य क्षमा कर
स्वयं को मुक्त कर लेना।

3 Likes · 31 Views
You may also like:
शीर्षक: "मैं तेरे शहर आ भी जाऊं तो"
MSW Sunil SainiCENA
*वोट मॉंगने वाला फोटो (हास्य-व्यंग्य)*
Ravi Prakash
एक से नहीं होते
shabina. Naaz
■ ग़ज़ल / अब मेटी नादानी देख...!
*प्रणय प्रभात*
औरतों की तालीम
Shekhar Chandra Mitra
द्रौपदी चीर हरण
Ravi Yadav
प्यारा तिरंगा
ओनिका सेतिया 'अनु '
हमें जाँ से प्यारा हमारा वतन है..
अश्क चिरैयाकोटी
वही मित्र है
Kavita Chouhan
अब रुक जाना कहां है
कवि दीपक बवेजा
✍️"हैप्पी बर्थ डे पापा"✍️
'अशांत' शेखर
"अरे ओ मानव"
Dr Meenu Poonia
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में...
AJAY AMITABH SUMAN
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
धर्म अधर्म
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
चाल कुछ ऐसी चल गया कोई।
सत्य कुमार प्रेमी
रंगमंच है ये जगत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
महाराणा प्रताप
jaswant Lakhara
अगर तू नही है जीवन में ये अधखिला रह जाएगा
Ram Krishan Rastogi
जितना भी पाया है।
Taj Mohammad
*मेरे देश का सैनिक*
Prabhudayal Raniwal
प्रकृति का उपहार
Anamika Singh
मुकरियां_ गिलहरी
Manu Vashistha
غزل - دینے والے نے ہمیں درد بھائی کم نہ...
Shivkumar Bilagrami
दिल में
Dr fauzia Naseem shad
बहाना क्यूँ बनाते हो (जवाब -1)
bhandari lokesh
बेटियों तुम्हें करना होगा प्रश्न
rkchaudhary2012
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
काफ़िर जमाना
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Loading...