Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Nov 2023 · 1 min read

क्रिकेटी हार

मैं कैसे कह दूं दोस्त की मैं हार में खुश हूं।
पर वो खेल का मैदान था, चौसर तो नही था।।
दो वीर यदि लड़ेंगे तो हारेगा एक कोई।
शकुनी जो फेंके पासा, ये अवसर तो नहीं था।।

सौ बार तक गिने और फिर चलाए चक्र।
न शिशुपाल था सभा में न तो कृष्ण कोई था।।
ये खेल था बस इसको इक खेल ही समझो।
न राज्य दांव पर था न धर्म युद्ध कोई था।।

Take it as sports

Jai hind

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 127 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अगर तलाश करूं कोई मिल जायेगा,
अगर तलाश करूं कोई मिल जायेगा,
शेखर सिंह
तुम्हीं तुम हो.......!
तुम्हीं तुम हो.......!
Awadhesh Kumar Singh
विद्यापति धाम
विद्यापति धाम
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
"ऐ जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
*स्वर्ग तुल्य सुन्दर सा है परिवार हमारा*
*स्वर्ग तुल्य सुन्दर सा है परिवार हमारा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
तुमसे मैं प्यार करता हूँ
तुमसे मैं प्यार करता हूँ
gurudeenverma198
तुम मेरी जिन्दगी बन गए हो।
तुम मेरी जिन्दगी बन गए हो।
Taj Mohammad
'कहाँ राजा भोज कहाँ गंगू तेली' कहावत पर एक तर्कसंगत विचार / DR MUSAFIR BAITHA
'कहाँ राजा भोज कहाँ गंगू तेली' कहावत पर एक तर्कसंगत विचार / DR MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
24/232. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/232. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तन्हा -तन्हा
तन्हा -तन्हा
Surinder blackpen
राधा और मुरली को भी छोड़ना पड़ता हैं?
राधा और मुरली को भी छोड़ना पड़ता हैं?
The_dk_poetry
फितरत
फितरत
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
बदली बारिश बुंद से
बदली बारिश बुंद से
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
गौमाता की व्यथा
गौमाता की व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
*गाथा बिहार की*
*गाथा बिहार की*
Mukta Rashmi
भगिनि निवेदिता
भगिनि निवेदिता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जिंदगी मौज है रवानी है खुद की कहानी है l
जिंदगी मौज है रवानी है खुद की कहानी है l
Ranjeet kumar patre
करती पुकार वसुंधरा.....
करती पुकार वसुंधरा.....
Kavita Chouhan
" मन मेरा डोले कभी-कभी "
Chunnu Lal Gupta
रिश्ते
रिश्ते
पूर्वार्थ
आफत की बारिश
आफत की बारिश
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
कभी तो तुम्हे मेरी याद आयेगी
कभी तो तुम्हे मेरी याद आयेगी
Ram Krishan Rastogi
*माटी की संतान- किसान*
*माटी की संतान- किसान*
Harminder Kaur
बेटा राजदुलारा होता है?
बेटा राजदुलारा होता है?
Rekha khichi
श्रमिक दिवस
श्रमिक दिवस
Bodhisatva kastooriya
एक जहाँ हम हैं
एक जहाँ हम हैं
Dr fauzia Naseem shad
ये मतलबी ज़माना, इंसानियत का जमाना नहीं,
ये मतलबी ज़माना, इंसानियत का जमाना नहीं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मैंने आज तक किसी के
मैंने आज तक किसी के
*Author प्रणय प्रभात*
छिपकली
छिपकली
Dr Archana Gupta
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
Neelam Sharma
Loading...