Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Nov 25, 2016 · 1 min read

क्रांति जहां होती है

क्रांति जहां होती है तकलीफ भी वहां होती है
बगैर तकलीफ कहिये आप क्रांति कहां होती है
**********************************
कपिल कुमार
25/11/2016

144 Views
You may also like:
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
Forest Queen 'The Waterfall'
Buddha Prakash
आदमी कितना नादान है
Ram Krishan Rastogi
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
सिर्फ तुम
Seema 'Tu haina'
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण 'श्रीपद्'
जीवन के उस पार मिलेंगे
Shivkumar Bilagrami
*"पिता"*
Shashi kala vyas
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
नदी को बहने दो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हमनें ख़्वाबों को देखना छोड़ा
Dr fauzia Naseem shad
✍️जरूरी है✍️
Vaishnavi Gupta
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
Abhishek Pandey Abhi
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Shiva Gouri tiwari
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
पिता
नवीन जोशी 'नवल'
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
✍️कश्मकश भरी ज़िंदगी ✍️
Vaishnavi Gupta
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
✍️अकेले रह गये ✍️
Vaishnavi Gupta
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
"पधारो, घर-घर आज कन्हाई.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जीत कर भी जो
Dr fauzia Naseem shad
ख़्वाहिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
Loading...