Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Apr 2024 · 1 min read

क्यों ना बेफिक्र होकर सोया जाएं.!!

क्यों ना बेफिक्र होकर सोया जाएं.!!
अब बचा ही क्या है जिसको अब खोया जाएं.!

61 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
किसी के ख़्वाबों की मधुरता देखकर,
किसी के ख़्वाबों की मधुरता देखकर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
भारत का सिपाही
भारत का सिपाही
आनन्द मिश्र
जीभ/जिह्वा
जीभ/जिह्वा
लक्ष्मी सिंह
मौसम बेईमान है – प्रेम रस
मौसम बेईमान है – प्रेम रस
Amit Pathak
नटखट-चुलबुल चिड़िया।
नटखट-चुलबुल चिड़िया।
Vedha Singh
*सर्दी (बाल कविता)*
*सर्दी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मैं हैरतभरी नजरों से उनको देखती हूँ
मैं हैरतभरी नजरों से उनको देखती हूँ
ruby kumari
मोल नहीं होता है देखो, सुन्दर सपनों का कोई।
मोल नहीं होता है देखो, सुन्दर सपनों का कोई।
surenderpal vaidya
रमेशराज के 7 मुक्तक
रमेशराज के 7 मुक्तक
कवि रमेशराज
चढ़ा हूँ मैं गुमनाम, उन सीढ़ियों तक
चढ़ा हूँ मैं गुमनाम, उन सीढ़ियों तक
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ले चल साजन
ले चल साजन
Lekh Raj Chauhan
THE GREY GODDESS!
THE GREY GODDESS!
Dhriti Mishra
■ उल्टी गंगा गौमुख को...!
■ उल्टी गंगा गौमुख को...!
*प्रणय प्रभात*
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मई दिवस
मई दिवस
Neeraj Agarwal
शिकवा ,गिला
शिकवा ,गिला
Dr fauzia Naseem shad
इश्क पहली दफा
इश्क पहली दफा
साहित्य गौरव
हिंदी दोहे-प्राण
हिंदी दोहे-प्राण
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दोहा निवेदन
दोहा निवेदन
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
ओ! महानगर
ओ! महानगर
Punam Pande
"रहबर"
Dr. Kishan tandon kranti
भोजपुरी गाने वर्तमान में इस लिए ट्रेंड ज्यादा कर रहे है क्यो
भोजपुरी गाने वर्तमान में इस लिए ट्रेंड ज्यादा कर रहे है क्यो
Rj Anand Prajapati
आसमाँ मेें तारे, कितने हैं प्यारे
आसमाँ मेें तारे, कितने हैं प्यारे
The_dk_poetry
नव प्रस्तारित सवैया : भनज सवैया
नव प्रस्तारित सवैया : भनज सवैया
Sushila joshi
अल्फ़ाजी
अल्फ़ाजी
Mahender Singh
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कहानी ....
कहानी ....
sushil sarna
Never settle for less than you deserve.
Never settle for less than you deserve.
पूर्वार्थ
अस्ताचलगामी सूर्य
अस्ताचलगामी सूर्य
Mohan Pandey
तु आदमी मैं औरत
तु आदमी मैं औरत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...