Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Sep 2022 · 1 min read

क्यूं कर हुई हमें मुहब्बत , हमें नहीं मालूम

क्यूं कर हुई हमें मुहब्बत , हमें नहीं मालूम
क्यूं कर हुए आशिकी में फ़ना , हमें नहीं मालूम

क्यूं कर उनके दीदार की आरज़ू की, हमें नहीं मालूम
क्यूं कर उठाई जिल्लत आशिकी में , हमें नहीं मालूम

क्यूं कर समझा उन्हें इश्क का खुदा , हमें नहीं मालूम
क्यूं कर निभाई उनसे वफ़ा, हमें नहीं मालूम

क्यूं कर हुए उनके गेशुओं में गिरिफ्तार, हमें नहीं मालूम
क्यूं कर हुईं उनसे आँखें चार , हमें नहीं मालूम

क्यूं कर हुई हमसे खता , हमें नहीं मालूम
क्यूं कर न निभाई उन्होंने वफ़ा, हमें नहीं मालूम

क्यूं कर चुरा रहे वो नज़र, हमें नहीं मालूम
क्यूं कर गए सपने बिखर, हमें नहीं मालूम

क्यूं कर ढहा चाहतों का महल, हमें नहीं मालूम
क्यूं कर उन्होंने गैर का दामन संभाला, हमें नहीं मालूम

रिश्तों में आया ये कैसा ज्वर , हमें नहीं मालूम
इश्क के तार कैसे गए बिखर , हमें नहीं मालूम

क्यूं कर हुई मुहब्बत हमें , हमें नहीं मालूम
क्यूं कर हुए आशिकी में फ़ना , हमें नहीं मालूम

क्यूं कर उनके दीदार की आरज़ू की, हमें नहीं मालूम
क्यूं कर उठाई जिल्लत आशिकी में , हमें नहीं मालूम

Language: Hindi
6 Likes · 2 Comments · 177 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
वफ़ा का इनाम तेरे प्यार की तोहफ़े में है,
वफ़ा का इनाम तेरे प्यार की तोहफ़े में है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"सफर अधूरा है"
Dr. Kishan tandon kranti
जो रास्ता उसके घर की तरफ जाता है
जो रास्ता उसके घर की तरफ जाता है
कवि दीपक बवेजा
#प्रसंगवश😢
#प्रसंगवश😢
*Author प्रणय प्रभात*
मुट्ठी भर रेत है जिंदगी
मुट्ठी भर रेत है जिंदगी
Suryakant Dwivedi
"किस किस को वोट दूं।"
Dushyant Kumar
चाहता हे उसे सारा जहान
चाहता हे उसे सारा जहान
Swami Ganganiya
आओ एक गीत लिखते है।
आओ एक गीत लिखते है।
PRATIK JANGID
क्या मुकद्दर बनाकर तूने ज़मीं पर उतारा है।
क्या मुकद्दर बनाकर तूने ज़मीं पर उतारा है।
Phool gufran
हिंदुस्तानी है हम सारे
हिंदुस्तानी है हम सारे
Manjhii Masti
*जाति मुक्ति रचना प्रतियोगिता 28 जनवरी 2007*
*जाति मुक्ति रचना प्रतियोगिता 28 जनवरी 2007*
Ravi Prakash
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जनैत छी हमर लिखबा सँ
जनैत छी हमर लिखबा सँ
DrLakshman Jha Parimal
3343.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3343.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
सत्य कुमार प्रेमी
आज की राजनीति
आज की राजनीति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
सबला नारी
सबला नारी
आनन्द मिश्र
दो का पहाडा़
दो का पहाडा़
Rituraj shivem verma
दोहा त्रयी. . . . .
दोहा त्रयी. . . . .
sushil sarna
भगवावस्त्र
भगवावस्त्र
Dr Parveen Thakur
पर्यावरण
पर्यावरण
Dinesh Kumar Gangwar
माता सति की विवशता
माता सति की विवशता
SHAILESH MOHAN
कोई बात नहीं देर से आए,
कोई बात नहीं देर से आए,
Buddha Prakash
यदि तुमने किसी लड़की से कहीं ज्यादा अपने लक्ष्य से प्यार किय
यदि तुमने किसी लड़की से कहीं ज्यादा अपने लक्ष्य से प्यार किय
Rj Anand Prajapati
रातें ज्यादा काली हो तो समझें चटक उजाला होगा।
रातें ज्यादा काली हो तो समझें चटक उजाला होगा।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
लक्ष्मी अग्रिम भाग में,
लक्ष्मी अग्रिम भाग में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
If you ever need to choose between Love & Career
If you ever need to choose between Love & Career
पूर्वार्थ
सोच की अय्याशीया
सोच की अय्याशीया
Sandeep Pande
शिवकुमार बिलगरामी के बेहतरीन शे'र
शिवकुमार बिलगरामी के बेहतरीन शे'र
Shivkumar Bilagrami
Loading...