Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Nov 2016 · 1 min read

क्या चंद रोज की परेशानी मुश्किल है

69 साल तक झेल लिया भ्रस्टाचार
क्या चंद रोज की निगरानी मुश्किल है
***************************
सियासत छोड़ वतन वालों उठो ऊपर
क्या चंद रोज की परेशानी मुश्किल है
***************************
कपिल कुमार
12/11/2016

Language: Hindi
194 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हक़ीक़त सभी ख़्वाब
हक़ीक़त सभी ख़्वाब
Dr fauzia Naseem shad
प्रीतम दोहावली
प्रीतम दोहावली
आर.एस. 'प्रीतम'
नाहक करे मलाल....
नाहक करे मलाल....
डॉ.सीमा अग्रवाल
विषय:- विजयी इतिहास हमारा।
विषय:- विजयी इतिहास हमारा।
Neelam Sharma
*होली किस दिन को मने, सबसे बड़ा सवाल (हास्य कुंडलिया)*
*होली किस दिन को मने, सबसे बड़ा सवाल (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
तुम्हारे प्रश्नों के कई
तुम्हारे प्रश्नों के कई
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
कैसा कोलाहल यह जारी है....?
कैसा कोलाहल यह जारी है....?
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
2299.पूर्णिका
2299.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"खुशी मत मना"
Dr. Kishan tandon kranti
अंजामे-इश्क मेरे दोस्त
अंजामे-इश्क मेरे दोस्त
gurudeenverma198
मेरी बिखरी जिन्दगी के।
मेरी बिखरी जिन्दगी के।
Taj Mohammad
सच्ची पूजा
सच्ची पूजा
DESH RAJ
हर पति परमेश्वर नही होता
हर पति परमेश्वर नही होता
Kavita Chouhan
मैं नही चाहती किसी के जैसे बनना
मैं नही चाहती किसी के जैसे बनना
ruby kumari
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
* जगेगा नहीं *
* जगेगा नहीं *
surenderpal vaidya
कलम की ताकत और कीमत को
कलम की ताकत और कीमत को
Aarti Ayachit
🥀 *अज्ञानी की✍*🥀
🥀 *अज्ञानी की✍*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हम मुहब्बत कर रहे थे........
हम मुहब्बत कर रहे थे........
shabina. Naaz
■ जितनी जल्दी समझ लो उतना बढ़िया।
■ जितनी जल्दी समझ लो उतना बढ़िया।
*Author प्रणय प्रभात*
ख़ामुश हुई ख़्वाहिशें - नज़्म
ख़ामुश हुई ख़्वाहिशें - नज़्म
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
तुझे देखने को करता है मन
तुझे देखने को करता है मन
Rituraj shivem verma
भारत हमारा
भारत हमारा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अनादि
अनादि
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मसरुफियत में आती है बे-हद याद तुम्हारी
मसरुफियत में आती है बे-हद याद तुम्हारी
Vishal babu (vishu)
आसमां में चांद प्यारा देखिए।
आसमां में चांद प्यारा देखिए।
सत्य कुमार प्रेमी
ग़ज़ल- मशालें हाथ में लेकर ॲंधेरा ढूॅंढने निकले...
ग़ज़ल- मशालें हाथ में लेकर ॲंधेरा ढूॅंढने निकले...
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
भए प्रगट कृपाला, दीनदयाला,
भए प्रगट कृपाला, दीनदयाला,
Shashi kala vyas
बारिश का मौसम
बारिश का मौसम
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
" जी हुजूरी का नशा"
Dr Meenu Poonia
Loading...