Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2024 · 1 min read

कौशल

नमन मंच – साहित्य पीडिया
बिषय- कौशल
मिले मान निर्बल को कौशल से
कौशल मिले जटिल परिश्रम से
कौशल दिखा निर्बल भी उबरे
बिन कौशल कुछ भी ना निखरे
दिनेश कुमार गंगवार

Language: Hindi
3 Likes · 2 Comments · 43 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2495.पूर्णिका
2495.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जिस बाग में बैठा वहां पे तितलियां मिली
जिस बाग में बैठा वहां पे तितलियां मिली
कृष्णकांत गुर्जर
खूबसूरती
खूबसूरती
RAKESH RAKESH
जरूरत से ज्यादा मुहब्बत
जरूरत से ज्यादा मुहब्बत
shabina. Naaz
अखबार
अखबार
लक्ष्मी सिंह
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सावन म वैशाख समा गे
सावन म वैशाख समा गे
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मंहगाई  को वश में जो शासक
मंहगाई को वश में जो शासक
DrLakshman Jha Parimal
आग और धुआं
आग और धुआं
Ritu Asooja
जिस्म से जान निकालूँ कैसे ?
जिस्म से जान निकालूँ कैसे ?
Manju sagar
माटी
माटी
जगदीश लववंशी
जिंदगी का यह दौर भी निराला है
जिंदगी का यह दौर भी निराला है
Ansh
यही एक काम बुरा, जिंदगी में हमने किया है
यही एक काम बुरा, जिंदगी में हमने किया है
gurudeenverma198
**** बातें दिल की ****
**** बातें दिल की ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
इतना कभी ना खींचिए कि
इतना कभी ना खींचिए कि
Paras Nath Jha
मौसम बेईमान है – प्रेम रस
मौसम बेईमान है – प्रेम रस
Amit Pathak
सर्द ऋतु का हो रहा है आगमन।
सर्द ऋतु का हो रहा है आगमन।
surenderpal vaidya
प्रकाश परब
प्रकाश परब
Acharya Rama Nand Mandal
धुप मे चलने और जलने का मज़ाक की कुछ अलग है क्योंकि छाव देखते
धुप मे चलने और जलने का मज़ाक की कुछ अलग है क्योंकि छाव देखते
Ranjeet kumar patre
विनती सुन लो हे ! राधे
विनती सुन लो हे ! राधे
Pooja Singh
घटा घनघोर छाई है...
घटा घनघोर छाई है...
डॉ.सीमा अग्रवाल
झकझोरती दरिंदगी
झकझोरती दरिंदगी
Dr. Harvinder Singh Bakshi
लिख दूं
लिख दूं
Vivek saswat Shukla
ज़िंदगी को मैंने अपनी ऐसे संजोया है
ज़िंदगी को मैंने अपनी ऐसे संजोया है
Bhupendra Rawat
तेरा मेरा साथ
तेरा मेरा साथ
Pratibha Pandey
शब्द अभिव्यंजना
शब्द अभिव्यंजना
Neelam Sharma
अहसान का दे रहा हूं सिला
अहसान का दे रहा हूं सिला
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तंग गलियों में मेरे सामने, तू आये ना कभी।
तंग गलियों में मेरे सामने, तू आये ना कभी।
Manisha Manjari
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
जो समझ में आ सके ना, वो फसाना ए जहाँ हूँ
जो समझ में आ सके ना, वो फसाना ए जहाँ हूँ
Shweta Soni
Loading...