Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Dec 2023 · 1 min read

कोई यहां अब कुछ नहीं किसी को बताता है,

कोई यहां अब कुछ नहीं किसी को बताता है,
शहर भी अब खुद को इस भीड़ से बचाता है।

रहते थे जो पंछी कभी उस दरख़्त की डाल पर,
अब शाम होते ही उस दरख़्त को तलाशता है।

अंधेरा बढ़ता ही जा रहा है शाम से,
तो घरों सड़कों की लाईटें भी जल जाती है।

पर मन के अंधेरे को शायद ही कोई,
उम्मीदी के दीयों से मिटाता है।

खुद में क़ैद हुए यहां सबको ज़माना हो गया,
बेकसी की गुलामी से अब कौन ही बचाता है।

सालों साल कितने आते है और चले जाते है,
पर जो चला गया बमुश्किल ही वापस आता है।

1 Like · 1 Comment · 177 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from manjula chauhan
View all
You may also like:
ये तो मुहब्बत में
ये तो मुहब्बत में
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
पल पल रंग बदलती है दुनिया
पल पल रंग बदलती है दुनिया
Ranjeet kumar patre
International Camel Year
International Camel Year
Tushar Jagawat
"सैनिक की चिट्ठी"
Ekta chitrangini
Sari bandisho ko nibha ke dekha,
Sari bandisho ko nibha ke dekha,
Sakshi Tripathi
,,,,,,,,,,?
,,,,,,,,,,?
शेखर सिंह
नींबू की चाह
नींबू की चाह
Ram Krishan Rastogi
विश्वपर्यावरण दिवस पर -दोहे
विश्वपर्यावरण दिवस पर -दोहे
डॉक्टर रागिनी
उन पुरानी किताबों में
उन पुरानी किताबों में
Otteri Selvakumar
बेटी
बेटी
Vandna Thakur
मुफ़लिसों को बांटिए खुशियां खुशी से।
मुफ़लिसों को बांटिए खुशियां खुशी से।
सत्य कुमार प्रेमी
* चलते रहो *
* चलते रहो *
surenderpal vaidya
कुछ तो ऐसे हैं कामगार,
कुछ तो ऐसे हैं कामगार,
Satish Srijan
जंजीर
जंजीर
AJAY AMITABH SUMAN
★ शुभ-वंदन ★
★ शुभ-वंदन ★
*Author प्रणय प्रभात*
🙏🙏🙏🙏🙏🙏
🙏🙏🙏🙏🙏🙏
Neelam Sharma
हम दुनिया के सभी मच्छरों को तो नहीं मार सकते है तो क्यों न ह
हम दुनिया के सभी मच्छरों को तो नहीं मार सकते है तो क्यों न ह
Rj Anand Prajapati
मेरे हैं बस दो ख़ुदा
मेरे हैं बस दो ख़ुदा
The_dk_poetry
चन्दा लिए हुए नहीं,
चन्दा लिए हुए नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शुरुआत
शुरुआत
इंजी. संजय श्रीवास्तव
कितनी मासूम
कितनी मासूम
हिमांशु Kulshrestha
बस्ती जलते हाथ में खंजर देखा है,
बस्ती जलते हाथ में खंजर देखा है,
ज़ैद बलियावी
देश के संविधान का भी
देश के संविधान का भी
Dr fauzia Naseem shad
बेदर्द ...................................
बेदर्द ...................................
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
असफल लोगो के पास भी थोड़ा बैठा करो
असफल लोगो के पास भी थोड़ा बैठा करो
पूर्वार्थ
The Journey of this heartbeat.
The Journey of this heartbeat.
Manisha Manjari
ना अश्रु कोई गिर पाता है
ना अश्रु कोई गिर पाता है
Shweta Soni
ना वह हवा ना पानी है अब
ना वह हवा ना पानी है अब
VINOD CHAUHAN
माना तुम्हारे मुक़ाबिल नहीं मैं।
माना तुम्हारे मुक़ाबिल नहीं मैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
"बेटियाँ"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...