Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2023 · 1 min read

कैसे भुल जाऊ उस राह को जिस राह ने मुझे चलना सिखाया

कैसे भुल जाऊ उस राह को जिस राह ने मुझे चलना सिखाया
मैं चल चल के थक जाता था उस राह ने मुझे दौड़ना सिखाया
ये राहे जिंदगी तू ही बता कैसे जिऊ उस राह के बिना
जिस राह ने मुझे इस राह तक पहुंचाया।

1 Like · 325 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2887.*पूर्णिका*
2887.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हम तुम्हें लिखना
हम तुम्हें लिखना
Dr fauzia Naseem shad
राह बनाएं काट पहाड़
राह बनाएं काट पहाड़
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दीवार का साया
दीवार का साया
Dr. Rajeev Jain
शिवाजी
शिवाजी
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
"आभाष"
Dr. Kishan tandon kranti
"मौत से क्या डरना "
Yogendra Chaturwedi
बंशी बजाये मोहना
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
शेखर ✍️
शेखर ✍️
शेखर सिंह
किसी के साथ सोना और किसी का होना दोनों में ज़मीन आसमान का फर
किसी के साथ सोना और किसी का होना दोनों में ज़मीन आसमान का फर
Rj Anand Prajapati
अपनी कद्र
अपनी कद्र
Paras Nath Jha
दोहावली ओम की
दोहावली ओम की
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
वक्त इतना बदल गया है क्युँ
वक्त इतना बदल गया है क्युँ
Shweta Soni
अ-परिभाषित जिंदगी.....!
अ-परिभाषित जिंदगी.....!
VEDANTA PATEL
अपनों को दे फायदा ,
अपनों को दे फायदा ,
sushil sarna
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
प्यारा बंधन प्रेम का
प्यारा बंधन प्रेम का
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
महिमा है सतनाम की
महिमा है सतनाम की
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मुझे दर्द सहने की आदत हुई है।
मुझे दर्द सहने की आदत हुई है।
Taj Mohammad
चाहे जितनी हो हिमालय की ऊँचाई
चाहे जितनी हो हिमालय की ऊँचाई
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
वर्ल्ड रिकॉर्ड
वर्ल्ड रिकॉर्ड
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नर नारायण
नर नारायण
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
उसे देख खिल गयीं थीं कलियांँ
उसे देख खिल गयीं थीं कलियांँ
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
पुण्य स्मरण: 18 जून2008 को मुरादाबाद में आयोजित पारिवारिक सम
पुण्य स्मरण: 18 जून2008 को मुरादाबाद में आयोजित पारिवारिक सम
Ravi Prakash
हालातों का असर
हालातों का असर
Shyam Sundar Subramanian
आज तुझे देख के मेरा बहम टूट गया
आज तुझे देख के मेरा बहम टूट गया
Kumar lalit
तप रही जमीन और
तप रही जमीन और
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कहीं  पानी  ने  क़हर  ढाया......
कहीं पानी ने क़हर ढाया......
shabina. Naaz
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अगर मुझे तड़पाना,
अगर मुझे तड़पाना,
Dr. Man Mohan Krishna
Loading...