Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2024 · 1 min read

12, कैसे कैसे इन्सान

अपने जीवन में…
ना जाने कितने किरदार निभाता है इंसान,
कभी- कभी…
इन्सान होकर भी, इन्सानियत नहीं निभाता है इन्सान।
दौलत कमाकर भी, सुखी नहीं रहता,
ना जाने कैसे…
सुकून की तलाश में रहता है इन्सान।
जिससे नफरत करता,उसे पलभर में छोड़ देता,
मौहब्बत में सरहदें भी पार कर जाता है इन्सान।
एक- दूसरे को नीचा दिखाने की होड़ में,
रिश्तों को भी ताक पर रख देता है इन्सान।
मुनाफे के संबंध निभाते- निभाते,
रिश्तों का ही सौदागर बन जाता है इन्सान।
बचपन, यौवन और वृद्धावस्था का सफ़र तय करते करते,
इंसानियत ही भूलता जाता है इन्सान।
उचित-अनुचित की झूठी पहचान करके ‘मधु’,
खुद को ही खुदा समझने लगता है इन्सान।

68 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr .Shweta sood 'Madhu'
View all
You may also like:
तेरी याद
तेरी याद
SURYA PRAKASH SHARMA
मनमीत मेरे तुम हो
मनमीत मेरे तुम हो
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
कहते  हैं  रहती  नहीं, उम्र  ढले  पहचान ।
कहते हैं रहती नहीं, उम्र ढले पहचान ।
sushil sarna
बच्चों के पिता
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
★
पूर्वार्थ
अगर युवराज का ब्याह हो चुका होता, तो अमेठी में प्रत्याशी का
अगर युवराज का ब्याह हो चुका होता, तो अमेठी में प्रत्याशी का
*प्रणय प्रभात*
शिव स्तुति महत्व
शिव स्तुति महत्व
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
ऐसे यूं ना देख
ऐसे यूं ना देख
Shashank Mishra
"जलन"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
मेरे जज़्बात को चिराग कहने लगे
मेरे जज़्बात को चिराग कहने लगे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
तन्हाई में अपनी परछाई से भी डर लगता है,
तन्हाई में अपनी परछाई से भी डर लगता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Beginning of the end
Beginning of the end
Bidyadhar Mantry
आपको डुबाने के लिए दुनियां में,
आपको डुबाने के लिए दुनियां में,
नेताम आर सी
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
वजह ऐसी बन जाऊ
वजह ऐसी बन जाऊ
Basant Bhagawan Roy
न हम नजर से दूर है, न ही दिल से
न हम नजर से दूर है, न ही दिल से
Befikr Lafz
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
यादें
यादें
Dipak Kumar "Girja"
पुस्तक समीक्षा -राना लिधौरी गौरव ग्रंथ
पुस्तक समीक्षा -राना लिधौरी गौरव ग्रंथ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हो गये अब अजनबी, यहाँ सभी क्यों मुझसे
हो गये अब अजनबी, यहाँ सभी क्यों मुझसे
gurudeenverma198
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
आरजू
आरजू
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Tu chahe to mai muskurau
Tu chahe to mai muskurau
HEBA
वतन-ए-इश्क़
वतन-ए-इश्क़
Neelam Sharma
नेता जी
नेता जी
surenderpal vaidya
*नेता से चमचा बड़ा, चमचा आता काम (हास्य कुंडलिया)*
*नेता से चमचा बड़ा, चमचा आता काम (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
किताबें भी बिल्कुल मेरी तरह हैं
किताबें भी बिल्कुल मेरी तरह हैं
Vivek Pandey
नव वर्ष
नव वर्ष
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
तजुर्बे से तजुर्बा मिला,
तजुर्बे से तजुर्बा मिला,
Smriti Singh
Loading...