Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2024 · 1 min read

कैसे कहे

अपने ज़ज़्बातों को,
ज़ुबाँ पर लाने से हैं डरते।
दूर ना हो जाओ,
यही सोचकर चुप हैं रहते।।
तुम हो एक,
उन्मुक्त पवन का झौंका।
जिसकी शीतलता से,
हम गदगद हो जाते।।
ना हो अगर,
तुम पास मेरे।
सपने भी,
अधूरे रह जाते ।।
कल्पना नहीं हैं,
बिना तुम्हारे इस जीवन की ।
एक बंधन हैं बीच में,
जो इसे अटूट हैं बनाता ।।
कुछ मीठे से,
अहसास हैं ।
जो हमें कुछ कहने को,
मज़बूर करते हैं ।।
पर क्या करे,
अपने जज़्बातों को हम,
जुबां पर लाने से हैं डरते ।
दूर ना हो जाओ,
यही सोचकर चुप हैं रहते।।

महेश कुमावत

1 Like · 31 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Mahesh Kumawat
View all
You may also like:
राष्ट्र निर्माता गुरु
राष्ट्र निर्माता गुरु
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
2492.पूर्णिका
2492.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*दिल से*
*दिल से*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गरीब हैं लापरवाह नहीं
गरीब हैं लापरवाह नहीं
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"" *गणतंत्र दिवस* "" ( *26 जनवरी* )
सुनीलानंद महंत
*मोटू (बाल कविता)*
*मोटू (बाल कविता)*
Ravi Prakash
शौक या मजबूरी
शौक या मजबूरी
संजय कुमार संजू
सायलेंट किलर
सायलेंट किलर
Dr MusafiR BaithA
ना मुझे मुक़द्दर पर था भरोसा, ना ही तक़दीर पे विश्वास।
ना मुझे मुक़द्दर पर था भरोसा, ना ही तक़दीर पे विश्वास।
कविता झा ‘गीत’
" मैं तो लिखता जाऊँगा "
DrLakshman Jha Parimal
!!! सदा रखें मन प्रसन्न !!!
!!! सदा रखें मन प्रसन्न !!!
जगदीश लववंशी
"इतिहास गवाह है"
Dr. Kishan tandon kranti
इश्क की कीमत
इश्क की कीमत
Mangilal 713
सबरी के जूठे बेर चखे प्रभु ने उनका उद्धार किया।
सबरी के जूठे बेर चखे प्रभु ने उनका उद्धार किया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
वो मेरे दिल के एहसास अब समझता नहीं है।
वो मेरे दिल के एहसास अब समझता नहीं है।
Faiza Tasleem
फितरत
फितरत
Dr fauzia Naseem shad
Ice
Ice
Santosh kumar Miri
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
पल भर फासला है
पल भर फासला है
Ansh
जरासन्ध के पुत्रों ने
जरासन्ध के पुत्रों ने
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
■ पसंद अपनी-अपनी, शौक़ अपने-अपने। 😊😊
■ पसंद अपनी-अपनी, शौक़ अपने-अपने। 😊😊
*प्रणय प्रभात*
संत रविदास!
संत रविदास!
Bodhisatva kastooriya
चंद अशआर
चंद अशआर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
उठे ली सात बजे अईठे ली ढेर
उठे ली सात बजे अईठे ली ढेर
नूरफातिमा खातून नूरी
विश्व पर्यटन दिवस
विश्व पर्यटन दिवस
Neeraj Agarwal
तारे हैं आसमां में हजारों हजार दोस्त।
तारे हैं आसमां में हजारों हजार दोस्त।
सत्य कुमार प्रेमी
वो मुझे पास लाना नही चाहता
वो मुझे पास लाना नही चाहता
कृष्णकांत गुर्जर
खुश मिजाज़ रहना सीख लो,
खुश मिजाज़ रहना सीख लो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
अब नहीं वो ऐसे कि , मिले उनसे हँसकर
अब नहीं वो ऐसे कि , मिले उनसे हँसकर
gurudeenverma198
जब वक़्त के साथ चलना सीखो,
जब वक़्त के साथ चलना सीखो,
Nanki Patre
Loading...