Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jul 2018 · 1 min read

कैसे अब अखबार

दुनिया सारी बन गई, आज जहाँ बाजार ।
आईने सा हो वहाँ, ..कैसे अब अखबार ।।

आएगी क्या वाकई, ….ऐसी भी तारीख !
नही दिखेगा माँगता, मुझे एक भी भीॆख! !
रमेश शर्मा.

Language: Hindi
1 Like · 222 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"अपने की पहचान "
Yogendra Chaturwedi
जो तुम्हारी ख़ामोशी से तुम्हारी तकलीफ का अंदाजा न कर सके उसक
जो तुम्हारी ख़ामोशी से तुम्हारी तकलीफ का अंदाजा न कर सके उसक
ख़ान इशरत परवेज़
ख़ूबसूरत लम्हें
ख़ूबसूरत लम्हें
Davina Amar Thakral
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
कविता के प्रेरणादायक शब्द ही सन्देश हैं।
कविता के प्रेरणादायक शब्द ही सन्देश हैं।
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
हुई कोशिशें सदियों से पर
हुई कोशिशें सदियों से पर
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
कल्पित एक भोर पे आस टिकी थी, जिसकी ओस में तरुण कोपल जीवंत हुए।
कल्पित एक भोर पे आस टिकी थी, जिसकी ओस में तरुण कोपल जीवंत हुए।
Manisha Manjari
आरक्षण
आरक्षण
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
चिड़िया
चिड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
भारतीय रेल (Vijay Kumar Pandey 'pyasa'
भारतीय रेल (Vijay Kumar Pandey 'pyasa'
Vijay kumar Pandey
मुझे अकेले ही चलने दो ,यह है मेरा सफर
मुझे अकेले ही चलने दो ,यह है मेरा सफर
कवि दीपक बवेजा
कूच-ए-इश्क़ में मुहब्बत की कलियां बिखराते रहना,
कूच-ए-इश्क़ में मुहब्बत की कलियां बिखराते रहना,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सत्य क्या है ?
सत्य क्या है ?
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
My biggest fear is attachment.
My biggest fear is attachment.
पूर्वार्थ
दर्द का बस एक
दर्द का बस एक
Dr fauzia Naseem shad
शराब मुझको पिलाकर तुम,बहकाना चाहते हो
शराब मुझको पिलाकर तुम,बहकाना चाहते हो
gurudeenverma198
*अज्ञानी की कलम  *शूल_पर_गीत*
*अज्ञानी की कलम *शूल_पर_गीत*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
■ आज का विचार...
■ आज का विचार...
*प्रणय प्रभात*
24/234. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/234. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
समय बदलता तो हैं,पर थोड़ी देर से.
समय बदलता तो हैं,पर थोड़ी देर से.
Piyush Goel
रोबोटिक्स -एक समीक्षा
रोबोटिक्स -एक समीक्षा
Shyam Sundar Subramanian
"नजीर"
Dr. Kishan tandon kranti
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जो चाहते थे पा के भी तुम्हारा दिल खुशी नहीं।
जो चाहते थे पा के भी तुम्हारा दिल खुशी नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
मोदी को सुझाव
मोदी को सुझाव
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
गुरु पूर्णिमा आ वर्तमान विद्यालय निरीक्षण आदेश।
गुरु पूर्णिमा आ वर्तमान विद्यालय निरीक्षण आदेश।
Acharya Rama Nand Mandal
रानी लक्ष्मीबाई का मेरे स्वप्न में आकर मुझे राष्ट्र सेवा के लिए प्रेरित करना ......(निबंध) सर्वाधिकार सुरक्षित
रानी लक्ष्मीबाई का मेरे स्वप्न में आकर मुझे राष्ट्र सेवा के लिए प्रेरित करना ......(निबंध) सर्वाधिकार सुरक्षित
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
*चुप रहने की आदत है*
*चुप रहने की आदत है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
चौथापन
चौथापन
Sanjay ' शून्य'
Loading...