Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Dec 2023 · 1 min read

कैसी हसरतें हैं तुम्हारी जरा देखो तो सही

कैसी हसरतें हैं तुम्हारी जरा देखो तो सही
खुद को जाना ही नहीं पर खुदा को ढुँढ रहे

1 Like · 111 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
रिश्ता
रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
All you want is to see me grow
All you want is to see me grow
Ankita Patel
प्रदर्शन
प्रदर्शन
Sanjay ' शून्य'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"वैसा ही है"
Dr. Kishan tandon kranti
सत्तावन की क्रांति का ‘ एक और मंगल पांडेय ’
सत्तावन की क्रांति का ‘ एक और मंगल पांडेय ’
कवि रमेशराज
तेरी याद
तेरी याद
Shyam Sundar Subramanian
🕉️🌸आम का पेड़🌸🕉️
🕉️🌸आम का पेड़🌸🕉️
Radhakishan R. Mundhra
शुभह उठता रात में सोता था, कम कमाता चेन से रहता था
शुभह उठता रात में सोता था, कम कमाता चेन से रहता था
Anil chobisa
*वशिष्ठ (कुंडलिया)*
*वशिष्ठ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
#लघु_कविता
#लघु_कविता
*Author प्रणय प्रभात*
2385.पूर्णिका
2385.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सबसे नालायक बेटा
सबसे नालायक बेटा
आकांक्षा राय
भगतसिंह
भगतसिंह
Shekhar Chandra Mitra
*फितरत*
*फितरत*
Dushyant Kumar
फितरत न कभी सीखा
फितरत न कभी सीखा
Satish Srijan
*यार के पैर  जहाँ पर वहाँ  जन्नत है*
*यार के पैर जहाँ पर वहाँ जन्नत है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मेरी निजी जुबान है, हिन्दी ही दोस्तों
मेरी निजी जुबान है, हिन्दी ही दोस्तों
SHAMA PARVEEN
ਕਿਸਾਨੀ ਸੰਘਰਸ਼
ਕਿਸਾਨੀ ਸੰਘਰਸ਼
Surinder blackpen
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
बरबादी   का  जश्न  मनाऊं
बरबादी का जश्न मनाऊं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अधूरे ख्वाब
अधूरे ख्वाब
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
प्यार की स्टेजे (प्रक्रिया)
प्यार की स्टेजे (प्रक्रिया)
Ram Krishan Rastogi
दुश्मन से भी यारी रख। मन में बातें प्यारी रख। दुख न पहुंचे लहजे से। इतनी जिम्मेदारी रख। ।
दुश्मन से भी यारी रख। मन में बातें प्यारी रख। दुख न पहुंचे लहजे से। इतनी जिम्मेदारी रख। ।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
वो तुम्हारी पसंद को अपना मानता है और
वो तुम्हारी पसंद को अपना मानता है और
Rekha khichi
आया बसन्त आनन्द भरा
आया बसन्त आनन्द भरा
Surya Barman
माता की महिमा
माता की महिमा
SHAILESH MOHAN
*संस्कारों की दात्री*
*संस्कारों की दात्री*
Poonam Matia
रोज़ आकर वो मेरे ख़्वाबों में
रोज़ आकर वो मेरे ख़्वाबों में
Neelam Sharma
आंखे बाते जुल्फे मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो,
आंखे बाते जुल्फे मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो,
Vishal babu (vishu)
Loading...