Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Aug 2023 · 2 min read

कैसा दौर है ये क्यूं इतना शोर है ये

कैसा दौर है ये
क्यूं इतना शोर है ये

खुशी बस तस्वीर में बाकी रही
रिक्तता गहरे अंदर उतरती रही

असमर्थ संवाद, उलझती बातें
दिल खंडहर, सुलगती रातें

बोझिल हुआ जा रहा है इंसान अब यहां
उद्देश्यहीन जी रहा है जहान अब यहां

सुकून ढूंढ़ने को निकला था मशीन में
मशीन बन कर रह गया ख़ूब-तरीन में

सच्चाई अदालतों में दम तोड़ देती है
झूठ को बा-इज़्ज़त कर छोड़ देती है

पैसे ने ख़रीद लिए ईमान भी इंसान भी
गरीब के बिक रहे जमीन भी मकान भी

साधु कर रहे हैं चरित्र का हनन
सत्ता में बैठें हैं शकुनी मगन

न्याय पालिका की हालत बुरी है
नीचे से ऊपर तक घूस चल रही है

सरे आम बिक रहा है नशे का सामान
फिर भी छुप कर ख़रीद रही है आवाम

गरीब दो वक्त की रोटी को मज़दूरी करके रो रहा है
कातिल कैद में भी पकवान खाकर चैन से सो रहा है

प्रेम को रोज़ दफनाया जा रहा बेहतरी के नाम पर
जिंदा लाशें फेरे ले रही सरकारी नौकरी के नाम पर

औरत को समेटते रह गए चूल्हे और बिस्तर तक
देवियों को पूजते रहे ये घर से पहाड़ियों तक

बंट गया संसार जाति, धर्म और राजनीति में
इंसान बन गया भगवान बेबकूफों की परिणीति में

मोह माया अहंकार ने इंसान की बुद्धि को हर लिया
भाई ने भाई की जमीन पे ही कब्ज़ा कर लिया

रिश्तों को निभाया जा रहा है हैसियत देख कर
ईश्वर को मनाया जा रहा है इंसानियत बेच कर

जीवन के उद्देश से आज हर तबका भटक चुका है
भेजा था जो रक्षक जमीं पर वही भक्षक हो चुका है

करोड़ों की संपदा हासिल करने में जिसे जमाने लगे
पांच कुंतल लकड़ियों में आज उसे अपने ही जलाने चले

शमशान में जलती लाशों में अब कोई कमी भी नहीं रही
बंजर हो चुका इंसान अब इस जमीं में नमी ही नही रही

कैसा दौर है ये
क्यूं इतना शोर है ये
– मोनिका

Tag: Life
2 Likes · 1 Comment · 202 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Monika Verma
View all
You may also like:
बुंदेली दोहा- जंट (मजबूत)
बुंदेली दोहा- जंट (मजबूत)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"बल और बुद्धि"
Dr. Kishan tandon kranti
हुआ दमन से पार
हुआ दमन से पार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
भूखे भेड़िये हैं वो,
भूखे भेड़िये हैं वो,
Maroof aalam
बेटी पढ़ायें, बेटी बचायें
बेटी पढ़ायें, बेटी बचायें
Kanchan Khanna
हौसले से जग जीतता रहा
हौसले से जग जीतता रहा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
The destination
The destination
Bidyadhar Mantry
■ लेखन मेरे लिए...
■ लेखन मेरे लिए...
*Author प्रणय प्रभात*
अरे लोग गलत कहते हैं कि मोबाइल हमारे हाथ में है
अरे लोग गलत कहते हैं कि मोबाइल हमारे हाथ में है
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
जो ले जाये उस पार दिल में ऐसी तमन्ना न रख
जो ले जाये उस पार दिल में ऐसी तमन्ना न रख
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
ज़िंदगी मौत पर
ज़िंदगी मौत पर
Dr fauzia Naseem shad
*आई काम न संपदा, व्यर्थ बंगला कार【कुंडलिया】*
*आई काम न संपदा, व्यर्थ बंगला कार【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
प्रिय
प्रिय
The_dk_poetry
अल्फाज़
अल्फाज़
Shweta Soni
तुम भी 2000 के नोट की तरह निकले,
तुम भी 2000 के नोट की तरह निकले,
Vishal babu (vishu)
प्रेम
प्रेम
Neeraj Agarwal
"चलो जी लें आज"
Radha Iyer Rads/राधा अय्यर 'कस्तूरी'
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
होली की आयी बहार।
होली की आयी बहार।
Anil Mishra Prahari
महाराणा सांगा
महाराणा सांगा
Ajay Shekhavat
गणपति अभिनंदन
गणपति अभिनंदन
Shyam Sundar Subramanian
#शिवाजी_के_अल्फाज़
#शिवाजी_के_अल्फाज़
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
कावड़ियों की धूम है,
कावड़ियों की धूम है,
manjula chauhan
मतलबी किरदार
मतलबी किरदार
Aman Kumar Holy
एक टऽ खरहा एक टऽ मूस
एक टऽ खरहा एक टऽ मूस
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
*हम पर अत्याचार क्यों?*
*हम पर अत्याचार क्यों?*
Dushyant Kumar
शर्म करो
शर्म करो
Sanjay ' शून्य'
छोटी सी प्रेम कहानी
छोटी सी प्रेम कहानी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
2289.पूर्णिका
2289.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
यादों के झरोखों से...
यादों के झरोखों से...
मनोज कर्ण
Loading...