Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jul 2023 · 1 min read

कृतज्ञता

कृतज्ञता

“प्रोफेसर साहिबा, आखिर आपको ही हम कुलपति के रूप में क्यों चुनें ?”
“सर, किसी न किसी को तो आपको कुलपति के रूप में चुनना ही है। मैं इस पद के लिए अपेक्षित सभी योग्यताएं रखती हूं। महिला हूं, ऊपर से आरक्षित वर्ग से भी आती हूं। यदि आप मुझे कुलपति के रूप में चुनते हैं, तो आपकी सरकार के प्रति लोगों के मन में एक सकारात्मक सोच आएगी कि आपने एक दलित जाति महिला को इस विश्वविद्यालय के लिए कुलपति चुना।”
“बात तो आपकी सही है। पर देखिए प्रोफेसर साहिबा, आप तो कुलपति बन जाएंगी उससे हमें क्या मिलेगा ?”
“सर, यदि मैं कुलपति बन गई तो वहां जितने भी पद रिक्त हैं, वहां आप जिन्हें कहेंगे, मैं उन सबकी नियुक्ति पत्र जारी करा दूंगी। पहली ही दीक्षांत समारोह में आपको और जिन्हें भी आप कहेंगे, उन सबको पीएच. डी. की मानद उपाधि दिलाऊंगी। रोजमर्रा के कामकाज में जितनी भी निविदाएं जारी होंगी, उसमें आपके निर्देशानुसार ही कार्यादेश जारी कराऊंगी।”
“ठीक है कुलपति महोदया। अपनी ये सब बातें याद रखिएगा।”
दोनों ने अपना वादा याद रखा।
डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर छत्तीसगढ़

Language: Hindi
188 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इंसानियत अभी जिंदा है
इंसानियत अभी जिंदा है
Sonam Puneet Dubey
इन तन्हाइयो में तुम्हारी याद आयेगी
इन तन्हाइयो में तुम्हारी याद आयेगी
Ram Krishan Rastogi
इस गोशा-ए-दिल में आओ ना
इस गोशा-ए-दिल में आओ ना
Neelam Sharma
✍️ मसला क्यूँ है ?✍️
✍️ मसला क्यूँ है ?✍️
'अशांत' शेखर
जीवन चक्र
जीवन चक्र
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
ना वह हवा ना पानी है अब
ना वह हवा ना पानी है अब
VINOD CHAUHAN
सम्भल कर चलना जिंदगी के सफर में....
सम्भल कर चलना जिंदगी के सफर में....
shabina. Naaz
तीखा सूरज : उमेश शुक्ल के हाइकु
तीखा सूरज : उमेश शुक्ल के हाइकु
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हौसले हमारे ....!!!
हौसले हमारे ....!!!
Kanchan Khanna
मैनें प्रत्येक प्रकार का हर दर्द सहा,
मैनें प्रत्येक प्रकार का हर दर्द सहा,
Aarti sirsat
बोलती आँखे....
बोलती आँखे....
Santosh Soni
2960.*पूर्णिका*
2960.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हर हाल में खुश रहने का सलीका तो सीखो ,  प्यार की बौछार से उज
हर हाल में खुश रहने का सलीका तो सीखो , प्यार की बौछार से उज
DrLakshman Jha Parimal
तुमने मुझे दिमाग़ से समझने की कोशिश की
तुमने मुझे दिमाग़ से समझने की कोशिश की
Rashmi Ranjan
प्रेम बनो,तब राष्ट्र, हर्षमय सद् फुलवारी
प्रेम बनो,तब राष्ट्र, हर्षमय सद् फुलवारी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
क्या हुआ जो तूफ़ानों ने कश्ती को तोड़ा है
क्या हुआ जो तूफ़ानों ने कश्ती को तोड़ा है
Anil Mishra Prahari
#कविता-
#कविता-
*Author प्रणय प्रभात*
परिस्थितियॉं बदल गईं ( लघु कथा)
परिस्थितियॉं बदल गईं ( लघु कथा)
Ravi Prakash
तन्हाई
तन्हाई
Rajni kapoor
धैर्य वह सम्पत्ति है जो जितनी अधिक आपके पास होगी आप उतने ही
धैर्य वह सम्पत्ति है जो जितनी अधिक आपके पास होगी आप उतने ही
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
जितना खुश होते है
जितना खुश होते है
Vishal babu (vishu)
* धीरे धीरे *
* धीरे धीरे *
surenderpal vaidya
एक बालक की अभिलाषा
एक बालक की अभिलाषा
Shyam Sundar Subramanian
जिन्दगी में
जिन्दगी में
लक्ष्मी सिंह
किसान आंदोलन
किसान आंदोलन
मनोज कर्ण
एक गुजारिश तुझसे है
एक गुजारिश तुझसे है
Buddha Prakash
दिल नहीं ऐतबार
दिल नहीं ऐतबार
Dr fauzia Naseem shad
खुद्दार
खुद्दार
अखिलेश 'अखिल'
खेल भावनाओं से खेलो, जीवन भी है खेल रे
खेल भावनाओं से खेलो, जीवन भी है खेल रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"आकांक्षा" हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Loading...