Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Dec 2022 · 1 min read

कुदरत से हम सीख रहे हैं, कैसा हमको बनना

कुदरत से हम सीख रहे हैं, कैसा हमको बनना
हम बच्चों को हर इक सपना, कैसे पूरा करना

अटल रहो अपनी राहों पर, पर्वत ये सिखलाते
सरल बहो नदिया के जैसे, धारे ये बतलाते
सागर से हम सीख रहे हैं, खारेपन से लड़ना
कुदरत से हम सीख रहे हैं, कैसा हमको बनना

चलने वाले चलते जाते, ठोकर पर कब रुकते
लद जाते हैं पेड़ कभी जब, देखा उनको झुकते
सीख रहे हैं ये सारे गुण, अपने अंदर भरना
कुदरत से हम सीख रहे हैं, कैसा हमको बनना

देख रहे हैं दिन प्रतिदिन हम, मौसम रंग बदलते
पीले पत्ते झरते हैं जब, तब नव पात निकलते
इनसे जाना आशाओं के, दीप जलाये रखना
कुदरत से हम सीख रहे हैं, कैसा हमको बनना

नन्हें नन्हें पंछी भी जब, ख़ूब उड़ाने भरते
उन्हें देखकर हम उड़ने के, सपने देखा करते
उनकी हिम्मत देख-देख कर,भूल रहे हम डरना
कुदरत से हम सीख रहे हैं, कैसा हमको बनना

सूरज राजा रोज निकलते , सही समय छुप जाते
और समय पर चंदा तारे, आसमान में आते
सीख रहे हैं इन सब से हम, काम समय पर करना
कुदरत से हम सीख रहे हैं, कैसा हमको बनना

27-12-2022
डॉ अर्चना गुप्ता

Language: Hindi
5 Likes · 4 Comments · 1153 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
सितारे अपने आजकल गर्दिश में चल रहे है
सितारे अपने आजकल गर्दिश में चल रहे है
shabina. Naaz
जवानी
जवानी
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
मेरी निजी जुबान है, हिन्दी ही दोस्तों
मेरी निजी जुबान है, हिन्दी ही दोस्तों
SHAMA PARVEEN
चाय ही पी लेते हैं
चाय ही पी लेते हैं
Ghanshyam Poddar
बाल कविता: चिड़िया आयी
बाल कविता: चिड़िया आयी
Rajesh Kumar Arjun
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Us jamane se iss jamane tak ka safar ham taye karte rhe
Us jamane se iss jamane tak ka safar ham taye karte rhe
Sakshi Tripathi
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
".... कौन है "
Aarti sirsat
शब्दों की अहमियत को कम मत आंकिये साहिब....
शब्दों की अहमियत को कम मत आंकिये साहिब....
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
तुम कहते हो की हर मर्द को अपनी पसंद की औरत को खोना ही पड़ता है चाहे तीनों लोक के कृष्ण ही क्यों ना हो
तुम कहते हो की हर मर्द को अपनी पसंद की औरत को खोना ही पड़ता है चाहे तीनों लोक के कृष्ण ही क्यों ना हो
$úDhÁ MãÚ₹Yá
शिक्षक हमारे देश के
शिक्षक हमारे देश के
Bhaurao Mahant
नशा
नशा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
जिसने हर दर्द में मुस्कुराना सीख लिया उस ने जिंदगी को जीना स
जिसने हर दर्द में मुस्कुराना सीख लिया उस ने जिंदगी को जीना स
Swati
नई नसल की फसल
नई नसल की फसल
विजय कुमार अग्रवाल
ज़माने की निगाहों से कैसे तुझपे एतबार करु।
ज़माने की निगाहों से कैसे तुझपे एतबार करु।
Phool gufran
बादलों को आज आने दीजिए।
बादलों को आज आने दीजिए।
surenderpal vaidya
दोहे तरुण के।
दोहे तरुण के।
Pankaj sharma Tarun
बलिदानी सैनिक की कामना (गीत)
बलिदानी सैनिक की कामना (गीत)
Ravi Prakash
फेसबुक
फेसबुक
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
3247.*पूर्णिका*
3247.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
■ जीवन मूल्य।
■ जीवन मूल्य।
*Author प्रणय प्रभात*
मुझको कभी भी आजमाकर देख लेना
मुझको कभी भी आजमाकर देख लेना
Ram Krishan Rastogi
कई युगों के बाद - दीपक नीलपदम्
कई युगों के बाद - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
💐अज्ञात के प्रति-34💐
💐अज्ञात के प्रति-34💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
क्या हमारी नियति हमारी नीयत तय करती हैं?
क्या हमारी नियति हमारी नीयत तय करती हैं?
Soniya Goswami
"इश्क़ वर्दी से"
Lohit Tamta
दस्तक
दस्तक
Satish Srijan
भरोसा
भरोसा
Paras Nath Jha
"उतना ही दिख"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...