Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 28, 2016 · 1 min read

कुण्डलियाँ

मानवीय सद्गुणों से, हुए कभी परतंत्र
सदियों के संघर्ष से, मिला हमें जनतंत्र
मिला हमें जनतंत्र, मिला न मन्त्र स्वदेशी
संविधान ने किया, देश में ही परदेशी
अंग्रेजी की पूँछ, और खिचता आरक्षण
लोकतान्त्रिक देश, और बद हुआ कुशासन||१||

लोकत्रांत्रिक देश में, फूल खिले बदरंग
जन जन नेता हो गए, अंकुश बिना दबंग
अंकुश बिना दबंग, मचाएं मारा मारी
आम नागरिक त्रस्त, लूटते भ्रष्टाचारी
सहनशीलता ओढ़, चीखते सर्प सपेरे
अच्छे दिन में सेंध, लगावें वे ही चेहरे||२ ||

1 Comment · 288 Views
You may also like:
सारे द्वार खुले हैं हमारे कोई झाँके तो सही
Vivek Pandey
✍️जंग टल जाये तो बेहतर है✍️
"अशांत" शेखर
【28】 *!* अखरेगी गैर - जिम्मेदारी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
किसी को गिराया नहीं मैनें।
Taj Mohammad
*विश्व योग का दिन पावन इक्कीस जून को आता(गीत)*
Ravi Prakash
【31】*!* तूफानों से क्यों झुकना *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
छाँव पिता की
Shyam Tiwari
✍️"एक वोट एक मूल्य"✍️
"अशांत" शेखर
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
सुकून सा ऐहसास...
Dr. Alpa H. Amin
पिता और एफडी
सूर्यकांत द्विवेदी
ज़िंदगी पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
जाग्रत हिंदुस्तान चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कोई तो है कहीं पे।
Taj Mohammad
श्री राम ने
Vishnu Prasad 'panchotiya'
देखा जो हुस्ने यार तो दिल भी मचल गया।
सत्य कुमार प्रेमी
ख़ामोश अल्फाज़।
Taj Mohammad
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
कल्पना
Anamika Singh
गांधी : एक सोच
Mahesh Ojha
खता क्या हुई मुझसे
Krishan Singh
तितली रानी (बाल कविता)
Anamika Singh
कर्मगति
Shyam Sundar Subramanian
हर गम को ही सह लूंगा।
Taj Mohammad
गंगा माँ
Anamika Singh
रस्सियाँ पानी की (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
💐प्रेम की राह पर-26💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जुबान काट दी जाएगी - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
Loading...