Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2016 · 1 min read

कुण्डलियाँ

मानवीय सद्गुणों से, हुए कभी परतंत्र
सदियों के संघर्ष से, मिला हमें जनतंत्र
मिला हमें जनतंत्र, मिला न मन्त्र स्वदेशी
संविधान ने किया, देश में ही परदेशी
अंग्रेजी की पूँछ, और खिचता आरक्षण
लोकतान्त्रिक देश, और बद हुआ कुशासन||१||

लोकत्रांत्रिक देश में, फूल खिले बदरंग
जन जन नेता हो गए, अंकुश बिना दबंग
अंकुश बिना दबंग, मचाएं मारा मारी
आम नागरिक त्रस्त, लूटते भ्रष्टाचारी
सहनशीलता ओढ़, चीखते सर्प सपेरे
अच्छे दिन में सेंध, लगावें वे ही चेहरे||२ ||

1 Comment · 439 Views
You may also like:
भारत का संविधान
rkchaudhary2012
तेरा हर लाल सरदार बने
Ashish Kumar
बाल मनोविज्ञान
Pakhi Jain
सूरज का ताप
सतीश मिश्र "अचूक"
- में तरसता रहा पाने को अपनो का प्यार -
bharat gehlot
आप कौन है
Sandeep Albela
*हम दीपावली मनाऍंगे (बाल कविता)*
Ravi Prakash
नदी सदृश जीवन
Manisha Manjari
रिश्ते
Saraswati Bajpai
मेरे हर खूबसूरत सफर की मंज़िल हो तुम,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
रावण के मन की व्यथा
Ram Krishan Rastogi
लौट आये पिता
Kavita Chouhan
$तीन घनाक्षरी
आर.एस. 'प्रीतम'
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
लहरों का आलाप ( दोहा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
औरत तेरी यही कहानी
विजय कुमार अग्रवाल
'सनातन ज्ञान'
Godambari Negi
परख लो रास्ते को तुम.....
अश्क चिरैयाकोटी
चार
Vikas Sharma'Shivaaya'
तुम मेरी हो...
Sapna K S
💐माधवेन सह प्रीति:💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दर्द का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
मैं तुम्हें पढ़ के
Dr fauzia Naseem shad
संसर्ग मुझमें
Varun Singh Gautam
मेरा अक्स तो आब है।
Taj Mohammad
जात-पात
Shekhar Chandra Mitra
बनेड़ा रै इतिहास री इक झिळक.............
लक्की सिंह चौहान
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:39
AJAY AMITABH SUMAN
दुनिया
Rashmi Sanjay
करता यही हूँ कामना माँ
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
Loading...