Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jul 2016 · 1 min read

कुछ लघु रचनाएं

अब दुनियां में सम्बन्धों की,
इक पहचान लिफ़ाफ़ा है l
हर रिश्ते में. हर नाते में,
बसती जान लिफ़ाफ़ा है l
चाहे बजती शहनाई हो,
या मातम हो मरने का l
जहाँ भी देखो दुनियादारी,
का ऐलान लिफ़फ़ा है l
****************

कातर नदिया तड़प रही है,
अपनी पीर सुनाने को l
फिर उतरो धरती पर माधो,
इसका चीर बचाने को l
कुछ दुर्योधन और दुशासन,
इस पर नज़र गढ़ाते हैं l
इसका जल-दोहन करने को,
नित नए दाँव लड़ाते हैं l
इस धरती पर इक महाभारत,
फिर से आज रचाने को l
कातर नदिया तड़प रही है,
अपनी पीर सुनाने को l
******************

बूढ़ी अम्मा के खाते में,
जब-जब पैसा आता है l
सात समुन्दर पार से आकर,
बेटा शीष नवाता है l
*********************

फिर आकर दिनकर ने अपनी आभा छोड़ी,
और गगन भी जागा नीली चादर ओढ़ी l
चन्दा-तारे गए शयन को अपने-अपने,
मेघों से भी हुई शरारत थोड़ी-थोड़ी l

-राजीव ‘प्रखर’
मुरादाबाद (उ. प्र.)
मो. 8941912642

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 558 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
" हो सके तो किसी के दामन पर दाग न लगाना ;
डॉ कुलदीपसिंह सिसोदिया कुंदन
अपना ख्याल रखियें
अपना ख्याल रखियें
Dr .Shweta sood 'Madhu'
वेदना ऐसी मिल गई कि मन प्रदेश में हाहाकार मच गया,
वेदना ऐसी मिल गई कि मन प्रदेश में हाहाकार मच गया,
Chahat
ध्रुव तारा
ध्रुव तारा
Bodhisatva kastooriya
हर मौसम का अपना अलग तजुर्बा है
हर मौसम का अपना अलग तजुर्बा है
कवि दीपक बवेजा
शिवनाथ में सावन
शिवनाथ में सावन
Santosh kumar Miri
अन-मने सूखे झाड़ से दिन.
अन-मने सूखे झाड़ से दिन.
sushil yadav
प्रिय
प्रिय
The_dk_poetry
इस पेट की ज़रूरते
इस पेट की ज़रूरते
Dr fauzia Naseem shad
आत्मनिर्भर नारी
आत्मनिर्भर नारी
Anamika Tiwari 'annpurna '
आंखों की चमक ऐसी, बिजली सी चमकने दो।
आंखों की चमक ऐसी, बिजली सी चमकने दो।
सत्य कुमार प्रेमी
यह  सिक्वेल बनाने का ,
यह सिक्वेल बनाने का ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
" हुनर "
Dr. Kishan tandon kranti
"झूठे लोग "
Yogendra Chaturwedi
हर किसी का कर्ज़ चुकता हो गया
हर किसी का कर्ज़ चुकता हो गया
Shweta Soni
3089.*पूर्णिका*
3089.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
माना जीवन लघु बहुत,
माना जीवन लघु बहुत,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*मासूम पर दया*
*मासूम पर दया*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
#कटाक्ष
#कटाक्ष
*प्रणय प्रभात*
*मायावी मारा गया, रावण प्रभु के हाथ (कुछ दोहे)*
*मायावी मारा गया, रावण प्रभु के हाथ (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
"लाचार मैं या गुब्बारे वाला"
संजय कुमार संजू
जिंदगी भर किया इंतजार
जिंदगी भर किया इंतजार
पूर्वार्थ
मेरे पापा
मेरे पापा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अहंकार
अहंकार
लक्ष्मी सिंह
"हम मिले थे जब, वो एक हसीन शाम थी"
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
मेरी घरवाली
मेरी घरवाली
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
अंगुलिया
अंगुलिया
Sandeep Pande
सब्र की मत छोड़ना पतवार।
सब्र की मत छोड़ना पतवार।
Anil Mishra Prahari
मजदूर
मजदूर
Preeti Sharma Aseem
अच्छा है कि प्रकृति और जंतुओं में दिमाग़ नहीं है
अच्छा है कि प्रकृति और जंतुओं में दिमाग़ नहीं है
Sonam Puneet Dubey
Loading...