Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Nov 2023 · 1 min read

कुछ पल

मन ही मन को कह रहा देखो भाई
बनी के सब साथी,बिगडे का न कोई

कहती थी ऐसा मेरी कस्तूरी ताई,
आज उनकी बात,बड़ी मन भाई.

खेल भी देखा देखे मैदान और खिलाडी
एक बात सब में साधारण पीच बनी अनाडी

मेहनती हम भारत वासी भागते भरे मैदान
फिल्डिंग तो वो भली शॉट सुनाई पड़े कान

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 462 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mahender Singh
View all
You may also like:
कर ही बैठे हैं हम खता देखो
कर ही बैठे हैं हम खता देखो
Dr Archana Gupta
साहित्य में प्रेम–अंकन के कुछ दलित प्रसंग / MUSAFIR BAITHA
साहित्य में प्रेम–अंकन के कुछ दलित प्रसंग / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मोबाइल फोन
मोबाइल फोन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
आदिपुरुष आ बिरोध
आदिपुरुष आ बिरोध
Acharya Rama Nand Mandal
3061.*पूर्णिका*
3061.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उदासी
उदासी
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
मुझे याद आता है मेरा गांव
मुझे याद आता है मेरा गांव
Adarsh Awasthi
*छाया कैसा  नशा है कैसा ये जादू*
*छाया कैसा नशा है कैसा ये जादू*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"चांद पे तिरंगा"
राकेश चौरसिया
गरीबी
गरीबी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
गुमनाम रहने दो मुझे।
गुमनाम रहने दो मुझे।
Satish Srijan
Bato ki garma garmi me
Bato ki garma garmi me
Sakshi Tripathi
"बात हीरो की"
Dr. Kishan tandon kranti
रिश्ता ऐसा हो,
रिश्ता ऐसा हो,
लक्ष्मी सिंह
हमको
हमको
Divya Mishra
डर एवं डगर
डर एवं डगर
Astuti Kumari
मिलन फूलों का फूलों से हुआ है_
मिलन फूलों का फूलों से हुआ है_
Rajesh vyas
ऐसे कैसे छोड़ कर जा सकता है,
ऐसे कैसे छोड़ कर जा सकता है,
Buddha Prakash
कहां ज़िंदगी का
कहां ज़िंदगी का
Dr fauzia Naseem shad
चूड़ी पायल बिंदिया काजल गजरा सब रहने दो
चूड़ी पायल बिंदिया काजल गजरा सब रहने दो
Vishal babu (vishu)
Window seat
Window seat
Sridevi Sridhar
देशभक्ति एवं राष्ट्रवाद
देशभक्ति एवं राष्ट्रवाद
Shyam Sundar Subramanian
नमन मंच
नमन मंच
Neeraj Agarwal
‘‘शिक्षा में क्रान्ति’’
‘‘शिक्षा में क्रान्ति’’
Mr. Rajesh Lathwal Chirana
तू जो लुटाये मुझपे वफ़ा
तू जो लुटाये मुझपे वफ़ा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मुद्दत से तेरे शहर में आना नहीं हुआ
मुद्दत से तेरे शहर में आना नहीं हुआ
Shweta Soni
हर तूफ़ान के बाद खुद को समेट कर सजाया है
हर तूफ़ान के बाद खुद को समेट कर सजाया है
Pramila sultan
एक सत्य
एक सत्य
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
यारों की आवारगी
यारों की आवारगी
The_dk_poetry
वेदना ऐसी मिल गई कि मन प्रदेश में हाहाकार मच गया,
वेदना ऐसी मिल गई कि मन प्रदेश में हाहाकार मच गया,
Sukoon
Loading...