Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jul 2021 · 1 min read

कुछ पंक्तियाँ

कोई लाख कोशिश कर ले तुम्हें पाने की और तुम उसे,
जो हमारा है,हमारा ही रहेगा।

किस्मत बदलेगी, दौर अपना भी आएगा,
जरुरी नहीं जो आज हारा है, हारा ही रहेगा।

ये दूरियाँ तो दो शहरों के दरम्यान हैं,
रिश्ता तो जो पुराना था,वही पुराना ही रहेगा।

ये ना सोचना दूर जा के दिल का नया किराएदार ढूंढेंगे,
ये दिल तुम्हारा था,है और तुम्हारा ही रहेगा।

Language: Hindi
Tag: गीत
8 Likes · 2 Comments · 371 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बचपन के वो दिन कितने सुहाने लगते है
बचपन के वो दिन कितने सुहाने लगते है
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
-        🇮🇳--हमारा ध्वज --🇮🇳
- 🇮🇳--हमारा ध्वज --🇮🇳
Mahima shukla
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझे
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
.
.
*प्रणय प्रभात*
हम पचास के पार
हम पचास के पार
Sanjay Narayan
‘प्रकृति से सीख’
‘प्रकृति से सीख’
Vivek Mishra
शिव मिल शिव बन जाता
शिव मिल शिव बन जाता
Satish Srijan
रेस का घोड़ा
रेस का घोड़ा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
क्या रावण अभी भी जिन्दा है
क्या रावण अभी भी जिन्दा है
Paras Nath Jha
पीड़ा
पीड़ा
DR ARUN KUMAR SHASTRI
होगा कोई ऐसा पागल
होगा कोई ऐसा पागल
gurudeenverma198
!! सोपान !!
!! सोपान !!
Chunnu Lal Gupta
सुनो पहाड़ की.....!!!! (भाग - ६)
सुनो पहाड़ की.....!!!! (भाग - ६)
Kanchan Khanna
मुझे मुहब्बत सिखाते जाते
मुझे मुहब्बत सिखाते जाते
Monika Arora
अंधेरा छाया
अंधेरा छाया
Neeraj Mishra " नीर "
*गृहस्थ संत स्वर्गीय बृजवासी लाल भाई साहब*
*गृहस्थ संत स्वर्गीय बृजवासी लाल भाई साहब*
Ravi Prakash
रिश्तों की कसौटी
रिश्तों की कसौटी
VINOD CHAUHAN
राम संस्कार हैं, राम संस्कृति हैं, राम सदाचार की प्रतिमूर्ति हैं...
राम संस्कार हैं, राम संस्कृति हैं, राम सदाचार की प्रतिमूर्ति हैं...
Anand Kumar
अपनी घड़ी उतार कर किसी को तोहफे ना देना...
अपनी घड़ी उतार कर किसी को तोहफे ना देना...
shabina. Naaz
बेटा राजदुलारा होता है?
बेटा राजदुलारा होता है?
Rekha khichi
ख़ामोश सा शहर
ख़ामोश सा शहर
हिमांशु Kulshrestha
अनुभूति
अनुभूति
Dr. Kishan tandon kranti
बुराई कर मगर सुन हार होती है अदावत की
बुराई कर मगर सुन हार होती है अदावत की
आर.एस. 'प्रीतम'
जन्म से
जन्म से
Santosh Shrivastava
नेता जी
नेता जी
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
होठों पे वही ख़्वाहिशें आँखों में हसीन अफ़साने हैं,
होठों पे वही ख़्वाहिशें आँखों में हसीन अफ़साने हैं,
शेखर सिंह
अजब गजब
अजब गजब
Akash Yadav
3511.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3511.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
All you want is to see me grow
All you want is to see me grow
Ankita Patel
Loading...