Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Feb 2017 · 1 min read

कुछ दोहे

कविता किरकी कांच जस, हर किरके को मोह ।
छपने की लोकेषणा, करे छंद से द्रोह ।

आत्म मुग्ध लेखन हुआ, पकड़ विदेशी छंद ।
ताका, महिया, हाइकू, निरस विदेशी कंद ।

पुलिस, कोर्ट. लोकल निगम, कर्म क्षेत्र बदनाम
बिना गांठ ढ़ीली किये, बनते वहाँ न काम ।

Language: Hindi
373 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Laxmi Narayan Gupta
View all
You may also like:
बताता कहां
बताता कहां
umesh mehra
2804. *पूर्णिका*
2804. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
I've washed my hands of you
I've washed my hands of you
पूर्वार्थ
"कैसे व्याख्या करूँ?"
Dr. Kishan tandon kranti
पैगाम
पैगाम
Shashi kala vyas
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
।। गिरकर उठे ।।
।। गिरकर उठे ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
हालातों से हारकर दर्द को लब्ज़ो की जुबां दी हैं मैंने।
हालातों से हारकर दर्द को लब्ज़ो की जुबां दी हैं मैंने।
अजहर अली (An Explorer of Life)
■ 80 फीसदी मुफ्तखोरों की सोच।
■ 80 फीसदी मुफ्तखोरों की सोच।
*Author प्रणय प्रभात*
सहयोग की बातें कहाँ, विचार तो मिलते नहीं ,मिलना दिवा स्वप्न
सहयोग की बातें कहाँ, विचार तो मिलते नहीं ,मिलना दिवा स्वप्न
DrLakshman Jha Parimal
साधना की मन सुहानी भोर से
साधना की मन सुहानी भोर से
OM PRAKASH MEENA
तीर'गी  तू  बता  रौशनी  कौन है ।
तीर'गी तू बता रौशनी कौन है ।
Neelam Sharma
पुलिस बनाम लोकतंत्र (व्यंग्य) +रमेशराज
पुलिस बनाम लोकतंत्र (व्यंग्य) +रमेशराज
कवि रमेशराज
कविता ....
कविता ....
sushil sarna
श्रीराम वन में
श्रीराम वन में
नवीन जोशी 'नवल'
छोटी कहानी -
छोटी कहानी - "पानी और आसमान"
Dr Tabassum Jahan
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
डाल-डाल तुम हो कर आओ
डाल-डाल तुम हो कर आओ
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
गीत
गीत
Shiva Awasthi
एकाकी
एकाकी
Dr.Pratibha Prakash
Ajj bade din bad apse bat hui
Ajj bade din bad apse bat hui
Sakshi Tripathi
स्त्री ने कभी जीत चाही ही नही
स्त्री ने कभी जीत चाही ही नही
Aarti sirsat
दोहा-
दोहा-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मौहब्बत को ख़ाक समझकर ओढ़ने आयी है ।
मौहब्बत को ख़ाक समझकर ओढ़ने आयी है ।
Phool gufran
*माटी की संतान- किसान*
*माटी की संतान- किसान*
Harminder Kaur
यह ज़िंदगी है आपकी
यह ज़िंदगी है आपकी
Dr fauzia Naseem shad
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
जिस्म का खून करे जो उस को तो क़ातिल कहते है
जिस्म का खून करे जो उस को तो क़ातिल कहते है
shabina. Naaz
मुट्ठी में आकाश ले, चल सूरज की ओर।
मुट्ठी में आकाश ले, चल सूरज की ओर।
Suryakant Dwivedi
💐अज्ञात के प्रति-69💐
💐अज्ञात के प्रति-69💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...