Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Oct 2023 · 1 min read

कुछ देर तुम ऐसे ही रहो

कुछ देर तुम ऐसे ही रहो, मैं प्यार तुमको जीभर कर लूं।
प्यास अधूरी रहे नहीं दिल की, चाहत यह पूरी कर लूं।।
कुछ देर तुम ऐसे ही रहो——————-।।

लब तुम्हारे छूने दो मुझको, आकर मुझसे लिपट जावो।
चूमने दो इन सुर्ख गालों को, मेरी बाँहों में तुम आ जावो।।
जब तक सरुर खत्म नहीं हो, इच्छा खत्म यह नहीं कर लूं।
कुछ देर तुम ऐसे ही रहो—————–।।

तुम भी जवां हो,मैं भी जवां हूँ, मौसम भी आज जवां है।
हमको इशारा गुलों ने किया है, ऐसा नजारा और कहाँ है।।
हटाओ यह अपनी चिलमन, तेरे हुस्न का दीदार मैं कर लूं।
कुछ देर तुम ऐसे ही रहो———————-।।

कोई गुनाह हम नहीं कर रहे, प्यार अपना है जन्म-जन्म का।
हम है जीवनसाथी सदा के, रिश्ता है अपना जन्म-जन्म का।।
यह प्यार अपना महके कल भी, वो फूल आज पैदा कर लूं।
कुछ देर तुम ऐसे ही रहो——————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
215 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यह रात कट जाए
यह रात कट जाए
Shivkumar Bilagrami
सुख दुःख
सुख दुःख
विजय कुमार अग्रवाल
इश्क मुकम्मल करके निकला
इश्क मुकम्मल करके निकला
कवि दीपक बवेजा
प्रयास जारी रखें
प्रयास जारी रखें
Mahender Singh
"ऐसा करें कुछ"
Dr. Kishan tandon kranti
गर समझते हो अपने स्वदेश को अपना घर
गर समझते हो अपने स्वदेश को अपना घर
ओनिका सेतिया 'अनु '
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
चट्टानी अडान के आगे शत्रु भी झुक जाते हैं, हौसला बुलंद हो तो
चट्टानी अडान के आगे शत्रु भी झुक जाते हैं, हौसला बुलंद हो तो
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
धन्य हैं वो बेटे जिसे माँ-बाप का भरपूर प्यार मिलता है । कुछ
धन्य हैं वो बेटे जिसे माँ-बाप का भरपूर प्यार मिलता है । कुछ
Dr. Man Mohan Krishna
Wishing you a Diwali filled with love, laughter, and the swe
Wishing you a Diwali filled with love, laughter, and the swe
Lohit Tamta
प्रेम-प्रेम रटते सभी,
प्रेम-प्रेम रटते सभी,
Arvind trivedi
मन होता है मेरा,
मन होता है मेरा,
Dr Tabassum Jahan
“दूल्हे की परीक्षा – मिथिला दर्शन” (संस्मरण -1974)
“दूल्हे की परीक्षा – मिथिला दर्शन” (संस्मरण -1974)
DrLakshman Jha Parimal
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नया दिन
नया दिन
Vandna Thakur
!! रे, मन !!
!! रे, मन !!
Chunnu Lal Gupta
■ और एक दिन ■
■ और एक दिन ■
*Author प्रणय प्रभात*
बरसाने की हर कलियों के खुशबू में राधा नाम है।
बरसाने की हर कलियों के खुशबू में राधा नाम है।
Rj Anand Prajapati
अभिमान
अभिमान
Neeraj Agarwal
सीढ़ियों को दूर से देखने की बजाय नजदीक आकर सीढ़ी पर चढ़ने का
सीढ़ियों को दूर से देखने की बजाय नजदीक आकर सीढ़ी पर चढ़ने का
Paras Nath Jha
वो,
वो,
हिमांशु Kulshrestha
*माता चरणों में विनय, दो सद्बुद्धि विवेक【कुंडलिया】*
*माता चरणों में विनय, दो सद्बुद्धि विवेक【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
लाचार जन की हाय
लाचार जन की हाय
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आज की प्रस्तुति: भाग 4
आज की प्रस्तुति: भाग 4
Rajeev Dutta
प्यारा-प्यारा है यह पंछी
प्यारा-प्यारा है यह पंछी
Suryakant Dwivedi
कलम
कलम
शायर देव मेहरानियां
छोड़ऽ बिहार में शिक्षक बने के सपना।
छोड़ऽ बिहार में शिक्षक बने के सपना।
जय लगन कुमार हैप्पी
कभी भ्रम में मत जाना।
कभी भ्रम में मत जाना।
surenderpal vaidya
ऐ सुनो
ऐ सुनो
Anand Kumar
गुमराह जिंदगी में अब चाह है किसे
गुमराह जिंदगी में अब चाह है किसे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...