Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jun 2018 · 1 min read

कुंडलिया छंद

कुंडलिया छंद-
माना ये इस जगत में,फल हैं खास तमाम।
कहते हैं पर सब यही,फल का राजा आम।
फल का राजा आम,सभी को सदा लुभाए।
बालक वृद्ध जवान ,इसे हर कोई खाए।
सबका अपना स्वाद,भेद हैं इसके नाना।
जो है जिसे पसंद, उसी को बढ़िया माना।।1

मँहगाई के दौर में, आम हो गया खास।
निर्धन मुँह लगता नहीं,जिसकी जेब उदास।
जिसकी जेब उदास,देखकर वह ललचाए।
बढ़िया सुन्दर आम ,खास जन बैठा खाए।
रहे नहीं अब बाग ,सभी की हुई कटाई।
घटी आम आपूर्ति , बढ़ी दूजे मँहगाई।।2
डाॅ बिपिन पाण्डेय

381 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जमाने से विद लेकर....
जमाने से विद लेकर....
Neeraj Mishra " नीर "
इक इक करके सारे पर कुतर डाले
इक इक करके सारे पर कुतर डाले
ruby kumari
नव वर्ष हैप्पी वाला
नव वर्ष हैप्पी वाला
Satish Srijan
🙏😊🙏
🙏😊🙏
Neelam Sharma
हे कलम तुम कवि के मन का विचार लिखो।
हे कलम तुम कवि के मन का विचार लिखो।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
कितना अजीब ये किशोरावस्था
कितना अजीब ये किशोरावस्था
Pramila sultan
हज़ारों चाहने वाले निभाए एक मिल जाए
हज़ारों चाहने वाले निभाए एक मिल जाए
आर.एस. 'प्रीतम'
*प्राण-प्रतिष्ठा (दोहे)*
*प्राण-प्रतिष्ठा (दोहे)*
Ravi Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
वाह क्या खूब है मौहब्बत में अदाकारी तेरी।
वाह क्या खूब है मौहब्बत में अदाकारी तेरी।
Phool gufran
"ऐ इंसान"
Dr. Kishan tandon kranti
मुक्तक
मुक्तक
नूरफातिमा खातून नूरी
जीवन का रंगमंच
जीवन का रंगमंच
Harish Chandra Pande
अस्तित्व की ओट?🧤☂️
अस्तित्व की ओट?🧤☂️
डॉ० रोहित कौशिक
फिर आओ की तुम्हे पुकारता हूं मैं
फिर आओ की तुम्हे पुकारता हूं मैं
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
*सुनो माँ*
*सुनो माँ*
sudhir kumar
काव्य में सत्य, शिव और सौंदर्य
काव्य में सत्य, शिव और सौंदर्य
कवि रमेशराज
रेत मुट्ठी से फिसलता क्यूं है
रेत मुट्ठी से फिसलता क्यूं है
Shweta Soni
#लघुकथा
#लघुकथा
*प्रणय प्रभात*
फितरत
फितरत
Dr fauzia Naseem shad
Dear Moon.......
Dear Moon.......
R. H. SRIDEVI
3322.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3322.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
अभिव्यक्ति के माध्यम - भाग 02 Desert Fellow Rakesh Yadav
अभिव्यक्ति के माध्यम - भाग 02 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
सूरज को
सूरज को
surenderpal vaidya
बड़ी दूर तक याद आते हैं,
बड़ी दूर तक याद आते हैं,
शेखर सिंह
संवेदनहीन
संवेदनहीन
अखिलेश 'अखिल'
सिमट रहीं हैं वक्त की यादें, वक्त वो भी था जब लिख देते खत पर
सिमट रहीं हैं वक्त की यादें, वक्त वो भी था जब लिख देते खत पर
Lokesh Sharma
कभी आ
कभी आ
हिमांशु Kulshrestha
हॅंसी
हॅंसी
Paras Nath Jha
मेरे प्रेम पत्र
मेरे प्रेम पत्र
विजय कुमार नामदेव
Loading...