Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Feb 2023 · 1 min read

कुंडलिया छंद

कुंडलिया छंद
मिलता है जब काम के,बदले में सम्मान।
आतीं जिम्मेदारियाँ ,बढ़ जाती है शान।
बढ़ जाती है शान,लोग जब करें बड़ाई।
दुख का बड़ा पहाड़, लगे जैसे हो राई।
लेकर जो संकल्प ,नहीं रत्ती भर हिलता।
उसको जीवन लक्ष्य,ज़िंदगी में है मिलता।।
-डाॅ.बिपिन पाण्डेय

2 Likes · 2 Comments · 332 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सुख मेरा..!
सुख मेरा..!
Hanuman Ramawat
गुम है
गुम है
Punam Pande
■ आज की परिभाषा याद कर लें। प्रतियोगी परीक्षा में काम आएगी।
■ आज की परिभाषा याद कर लें। प्रतियोगी परीक्षा में काम आएगी।
*प्रणय प्रभात*
एक सही आदमी ही अपनी
एक सही आदमी ही अपनी
Ranjeet kumar patre
राज
राज
Neeraj Agarwal
*मां तुम्हारे चरणों में जन्नत है*
*मां तुम्हारे चरणों में जन्नत है*
Krishna Manshi
दुःख बांटू तो लोग हँसते हैं ,
दुःख बांटू तो लोग हँसते हैं ,
Uttirna Dhar
अगर प्यार करना गुनाह है,
अगर प्यार करना गुनाह है,
Dr. Man Mohan Krishna
Hard To Love
Hard To Love
Vedha Singh
तितली के तेरे पंख
तितली के तेरे पंख
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
बुंदेली दोहा-सुड़ी (इल्ली)
बुंदेली दोहा-सुड़ी (इल्ली)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
तुम पतझड़ सावन पिया,
तुम पतझड़ सावन पिया,
लक्ष्मी सिंह
*रात से दोस्ती* ( 9 of 25)
*रात से दोस्ती* ( 9 of 25)
Kshma Urmila
प्यारी बहना
प्यारी बहना
Astuti Kumari
भूली-बिसरी यादें
भूली-बिसरी यादें
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
ब्रह्मेश्वर मुखिया / MUSAFIR BAITHA
ब्रह्मेश्वर मुखिया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
3616.💐 *पूर्णिका* 💐
3616.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
यादें मोहब्बत की
यादें मोहब्बत की
Mukesh Kumar Sonkar
*वर्ष दो हजार इक्कीस (छोटी कहानी))*
*वर्ष दो हजार इक्कीस (छोटी कहानी))*
Ravi Prakash
घाव मरहम से छिपाए जाते है,
घाव मरहम से छिपाए जाते है,
Vindhya Prakash Mishra
"नवरात्रि पर्व"
Pushpraj Anant
कार्यशैली और विचार अगर अनुशासित हो,तो लक्ष्य को उपलब्धि में
कार्यशैली और विचार अगर अनुशासित हो,तो लक्ष्य को उपलब्धि में
Paras Nath Jha
औरों की खुशी के लिए ।
औरों की खुशी के लिए ।
Buddha Prakash
चलते रहना ही जीवन है।
चलते रहना ही जीवन है।
संजय कुमार संजू
इश्क हम उम्र हो ये जरूरी तो नहीं,
इश्क हम उम्र हो ये जरूरी तो नहीं,
शेखर सिंह
"बेदर्द जमाने में"
Dr. Kishan tandon kranti
जो हार नहीं मानते कभी, जो होते कभी हताश नहीं
जो हार नहीं मानते कभी, जो होते कभी हताश नहीं
महेश चन्द्र त्रिपाठी
गिरगिट माँगे ईश से,
गिरगिट माँगे ईश से,
sushil sarna
बावला
बावला
Ajay Mishra
Loading...