Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2016 · 1 min read

कुंडलियां छन्द

कारे बदरा छा गये, छम छम बरसे बूँद
राधा देखे श्याम को , अपनी आँखे मूँद
अपनी आँखे मूँद , भरे वह ठंडी आहें
कलियाँ बनती फूल , सजी हैं मन की राहें
देखा रूप अनूप , निहारे मोहन प्यारे
गये ह्रदय में डूब , गरजते बदरा कारे

पुष्प लता शर्मा

3 Likes · 3 Comments · 410 Views
You may also like:
देख सिसकता भोला बचपन...
डॉ.सीमा अग्रवाल
=*बुराई का अन्त*=
Prabhudayal Raniwal
तुझे देखूं सुबह शाम।
Taj Mohammad
मानकर जिसको अपनी खुशी
gurudeenverma198
कृष्ण मुरारी
Rekha Drolia
मानवता के डगर पर
Shivraj Anand
Sunny Yadav - Actor & Model
Sunny Yadav
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कहां छुपाऊं तुम्हें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
समाज का दर्पण और मानव की सोच
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
" भेड़ चाल कहूं या विडंबना "
Dr Meenu Poonia
✍️महामानव को कोटि कोटि प्रणाम
'अशांत' शेखर
जहां पर रब नही है
अनूप अंबर
दर्द दिल की दवा
कृष्णकांत गुर्जर
चुरा कर दिल मेरा,इल्जाम मुझ पर लगाती हो (व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
जब पंखुड़ी गिरने लगे,
Pradyumna
भोले भंडारी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*प्रभु नाम से जी को चुराते रहे (घनाक्षरी)*
Ravi Prakash
अपना ख़्याल
Dr fauzia Naseem shad
'विजय दिवस'
Godambari Negi
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
मय है मीना है साकी नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
उम्मीद का दिया जलाए रखो
Kapil rani (vocational teacher in haryana)
फ़क़ीरी में खुश है वो
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जिंदगी का एकाकीपन
मनोज कर्ण
आ.अ.शि.संघ ( शिक्षक की पीड़ा)
Dhananjay Verma
असली पप्पू कौन है?
Shekhar Chandra Mitra
'माॅं बहुत बीमार है'
Rashmi Sanjay
भुलाने की कोशिश में तुझे याद कर जाता हूँ
Writer_ermkumar
मुकबल ख्वाब करने हैं......
कवि दीपक बवेजा
Loading...