Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jul 2023 · 1 min read

किसी वजह से जब तुम दोस्ती निभा न पाओ

किसी वजह से जब तुम दोस्ती निभा न पाओ
तो उस प्यार भरे रिश्ते को बोझिल भी मत होने देना।।

226 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ आज भी...।
■ आज भी...।
*Author प्रणय प्रभात*
न पूछो हुस्न की तारीफ़ हम से,
न पूछो हुस्न की तारीफ़ हम से,
Vishal babu (vishu)
🌸साहस 🌸
🌸साहस 🌸
Mahima shukla
दूर जाना था मुझसे तो करीब लाया क्यों
दूर जाना था मुझसे तो करीब लाया क्यों
कृष्णकांत गुर्जर
मुस्कुराहट
मुस्कुराहट
Santosh Shrivastava
इसरो के हर दक्ष का,
इसरो के हर दक्ष का,
Rashmi Sanjay
बाल कविता : बादल
बाल कविता : बादल
Rajesh Kumar Arjun
दिवाकर उग गया देखो,नवल आकाश है हिंदी।
दिवाकर उग गया देखो,नवल आकाश है हिंदी।
Neelam Sharma
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
!! प्रार्थना !!
!! प्रार्थना !!
Chunnu Lal Gupta
मित्रता-दिवस
मित्रता-दिवस
Kanchan Khanna
All of a sudden, everything feels unfair. You pour yourself
All of a sudden, everything feels unfair. You pour yourself
पूर्वार्थ
नज़्म/कविता - जब अहसासों में तू बसी है
नज़्म/कविता - जब अहसासों में तू बसी है
अनिल कुमार
प्यारा सा स्कूल
प्यारा सा स्कूल
Santosh kumar Miri
2948.*पूर्णिका*
2948.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
फिजा में तैर रही है तुम्हारी ही खुशबू।
फिजा में तैर रही है तुम्हारी ही खुशबू।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
Second Chance
Second Chance
Pooja Singh
शालीनता की गणित
शालीनता की गणित
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
मैं
मैं "आदित्य" सुबह की धूप लेकर चल रहा हूं।
Dr. ADITYA BHARTI
* जिन्दगी में *
* जिन्दगी में *
surenderpal vaidya
"बेटियाँ"
Dr. Kishan tandon kranti
बेटी के जीवन की विडंबना
बेटी के जीवन की विडंबना
Rajni kapoor
वाह क्या खूब है मौहब्बत में अदाकारी तेरी।
वाह क्या खूब है मौहब्बत में अदाकारी तेरी।
Phool gufran
तुम याद आ गये
तुम याद आ गये
Surinder blackpen
बिल्ली की लक्ष्मण रेखा
बिल्ली की लक्ष्मण रेखा
Paras Nath Jha
पढ़ाई
पढ़ाई
Kanchan Alok Malu
*हम पर अत्याचार क्यों?*
*हम पर अत्याचार क्यों?*
Dushyant Kumar
(21)
(21) "ऐ सहरा के कैक्टस ! *
Kishore Nigam
*संतुष्ट मन*
*संतुष्ट मन*
Shashi kala vyas
सबको   सम्मान दो ,प्यार  का पैगाम दो ,पारदर्शिता भूलना नहीं
सबको सम्मान दो ,प्यार का पैगाम दो ,पारदर्शिता भूलना नहीं
DrLakshman Jha Parimal
Loading...