Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jul 2016 · 1 min read

किसी के काम तो आया

मेरा नाकाम होना किसी के काम तो आया,
जुबां पर भूले से ही यूँ मेरा नाम तो आया.

जिए थे साथ वो भीगे से पल हमने भी कभी,
किसी औ की ख़ातिर अब ये विराम तो आया.
__शुचि (भवि)

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
3 Comments · 302 Views
You may also like:
JNU CAMPUS
मनोज शर्मा
करते रहे वफ़ा।
Taj Mohammad
गंगा जी में गए नहाने( बाल कविता)
Ravi Prakash
💐💐उनके दिल में...................💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हो गए हम बे सफ़र
Shivkumar Bilagrami
शुभोदर छंद(नवाक्षरवृति वार्णिक छंद)
Neelam Sharma
ओ परदेसी तेरे गांव ने बुलाया,
अनूप अंबर
एक झलक
Er.Navaneet R Shandily
काकाको चप्पल (Uncle's Slippers)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
एहसास-ए-शु'ऊर
Shyam Sundar Subramanian
" राज सा पति "
Dr Meenu Poonia
कब मरा रावण
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
# बारिश का मौसम .....
Chinta netam " मन "
मुझे मरने की वजह दो
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
विद्यालय का गृहकार्य
Buddha Prakash
ज़िंदगी इम्तिहान लेती रही
Dr fauzia Naseem shad
मजदूरों वही हाल,, तो क्या नया साल,,
मानक लाल"मनु"
प्यार करने की कभी कोई उमर नही होती
Ram Krishan Rastogi
"अंतिम-सत्य..!"
Prabhudayal Raniwal
"वृद्धाश्रम" कहानी लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत, गुजरात।
radhakishan Mundhra
कृतज्ञता
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हाँ, मैं ऐसा तो नहीं था
gurudeenverma198
हनुमानजी
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
✍️जन्नतो की तालिब है..!✍️
'अशांत' शेखर
नवगीत - पहचान लेते थे
Mahendra Narayan
!! नफरत सी है मुझे !!
गायक और लेखक अजीत कुमार तलवार
// बेटी //
Surya Barman
डरता हुआ अँधेरा ?
DESH RAJ
'धरती माँ'
Godambari Negi
Loading...