Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jul 13, 2016 · 1 min read

किसी के काम तो आया

मेरा नाकाम होना किसी के काम तो आया,
जुबां पर भूले से ही यूँ मेरा नाम तो आया.

जिए थे साथ वो भीगे से पल हमने भी कभी,
किसी औ की ख़ातिर अब ये विराम तो आया.
__शुचि (भवि)

3 Comments · 258 Views
You may also like:
पल
sangeeta beniwal
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण 'श्रीपद्'
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
मुझे आज भी तुमसे प्यार है
Ram Krishan Rastogi
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
"सावन-संदेश"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
Anamika Singh
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कौन होता है कवि
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
ठोडे का खेल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरी तकदीर मेँ
Dr fauzia Naseem shad
यकीन कैसा है
Dr fauzia Naseem shad
आतुरता
अंजनीत निज्जर
फौजी बनना कहाँ आसान है
Anamika Singh
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
माँ — फ़ातिमा एक अनाथ बच्ची
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मैं हिन्दी हूँ , मैं हिन्दी हूँ / (हिन्दी दिवस...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
प्रकृति के चंचल नयन
मनोज कर्ण
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बड़ी मुश्किल से खुद को संभाल रखे है,
Vaishnavi Gupta
Loading...