Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Sep 2023 · 1 min read

किसी की तारीफ़ करनी है तो..

किसी की तारीफ़ करनी है तो ज़िंदादिली कीजिए..
मरने के बाद की हमदर्दी असल में झूठे कसीदे होते हैं।

✒️Brijpal Singh

Language: Hindi
Tag: शेर
1 Like · 112 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दायरे से बाहर (आज़ाद गज़लें)
दायरे से बाहर (आज़ाद गज़लें)
AJAY PRASAD
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
कुप्रथाएं.......एक सच
कुप्रथाएं.......एक सच
Neeraj Agarwal
पिता
पिता
Swami Ganganiya
ऐसे लहज़े में जब लिखते हो प्रीत को,
ऐसे लहज़े में जब लिखते हो प्रीत को,
Amit Pathak
उठो, जागो, बढ़े चलो बंधु...( स्वामी विवेकानंद की जयंती पर उनके दिए गए उत्प्रेरक मंत्र से प्रेरित होकर लिखा गया मेरा स्वरचित गीत)
उठो, जागो, बढ़े चलो बंधु...( स्वामी विवेकानंद की जयंती पर उनके दिए गए उत्प्रेरक मंत्र से प्रेरित होकर लिखा गया मेरा स्वरचित गीत)
डॉ.सीमा अग्रवाल
जब तुमने सहर्ष स्वीकारा है!
जब तुमने सहर्ष स्वीकारा है!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
इबादत अपनी
इबादत अपनी
Satish Srijan
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सुभाष चन्द्र बोस
सुभाष चन्द्र बोस
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
बिल्ले राम
बिल्ले राम
Kanchan Khanna
उसको फिर उसका
उसको फिर उसका
Dr fauzia Naseem shad
तुम याद आए
तुम याद आए
Rashmi Sanjay
क्षतिपूर्ति
क्षतिपूर्ति
Shweta Soni
तो मेरा नाम नही//
तो मेरा नाम नही//
गुप्तरत्न
श्री कृष्ण अवतार
श्री कृष्ण अवतार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
💐प्रेम कौतुक-515💐
💐प्रेम कौतुक-515💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Have faith in your doubt
Have faith in your doubt
AJAY AMITABH SUMAN
मेरी आँखों से भी नींदों का रिश्ता टूट जाता है
मेरी आँखों से भी नींदों का रिश्ता टूट जाता है
Aadarsh Dubey
दिखती है हर दिशा में वो छवि तुम्हारी है
दिखती है हर दिशा में वो छवि तुम्हारी है
Er. Sanjay Shrivastava
हँस लो! आज  दर-ब-दर हैं
हँस लो! आज दर-ब-दर हैं
दुष्यन्त 'बाबा'
हीरक जयंती 
हीरक जयंती 
Punam Pande
2404.पूर्णिका
2404.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
गुलाल का रंग, गुब्बारों की मार,
गुलाल का रंग, गुब्बारों की मार,
Ranjeet kumar patre
दुनिया में सब ही की तरह
दुनिया में सब ही की तरह
डी. के. निवातिया
"घर की नीम बहुत याद आती है"
Ekta chitrangini
वो नए सफर, वो अनजान मुलाकात- इंटरनेट लव
वो नए सफर, वो अनजान मुलाकात- इंटरनेट लव
कुमार
*गाड़ी तन की चल रही, तब तक सबको प्यार (कुंडलिया)*
*गाड़ी तन की चल रही, तब तक सबको प्यार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
■ आज ऐतिहासिक दिन
■ आज ऐतिहासिक दिन
*Author प्रणय प्रभात*
ਲਿਖ ਲਿਖ ਕੇ ਮੇਰਾ ਨਾਮ
ਲਿਖ ਲਿਖ ਕੇ ਮੇਰਾ ਨਾਮ
Surinder blackpen
Loading...