Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Mar 2024 · 1 min read

किसी अनमोल वस्तु का कोई तो मोल समझेगा

किसी अनमोल वस्तु का कोई तो मोल समझेगा
आसानी से मिल जाए कहां अनमोल समझेगा

देखकर जरूरत को मूल्य लगाया जाता है यहां
रंग बदलती दुनिया को हर कोई गोल समझेगा

✍️Deepak saral

73 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फितरत
फितरत
Kanchan Khanna
घर वापसी
घर वापसी
Aman Sinha
In case you are more interested
In case you are more interested
Dhriti Mishra
तंग गलियों में मेरे सामने, तू आये ना कभी।
तंग गलियों में मेरे सामने, तू आये ना कभी।
Manisha Manjari
* सामने आ गये *
* सामने आ गये *
surenderpal vaidya
शेरनी का डर
शेरनी का डर
Kumud Srivastava
--कहाँ खो गया ज़माना अब--
--कहाँ खो गया ज़माना अब--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
सत्य संकल्प
सत्य संकल्प
Shaily
हाई स्कूल के मेंढक (छोटी कहानी)
हाई स्कूल के मेंढक (छोटी कहानी)
Ravi Prakash
"नामुमकिन"
Dr. Kishan tandon kranti
*सत्य की खोज*
*सत्य की खोज*
Dr .Shweta sood 'Madhu'
आज फिर उनकी याद आई है,
आज फिर उनकी याद आई है,
Yogini kajol Pathak
सफ़र जिंदगी के.....!
सफ़र जिंदगी के.....!
VEDANTA PATEL
प्रकृति और तुम
प्रकृति और तुम
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
दोहा त्रयी. . . . शीत
दोहा त्रयी. . . . शीत
sushil sarna
जिसको भी चाहा तुमने साथी बनाना
जिसको भी चाहा तुमने साथी बनाना
gurudeenverma198
गुस्सा सातवें आसमान पर था
गुस्सा सातवें आसमान पर था
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मुझे किसी को रंग लगाने की जरूरत नहीं
मुझे किसी को रंग लगाने की जरूरत नहीं
Ranjeet kumar patre
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तलाशती रहती हैं
तलाशती रहती हैं
हिमांशु Kulshrestha
दो घूंट
दो घूंट
संजय कुमार संजू
क्या कहना हिन्दी भाषा का
क्या कहना हिन्दी भाषा का
shabina. Naaz
आत्मविश्वास से लबरेज व्यक्ति के लिए आकाश की ऊंचाई नापना भी उ
आत्मविश्वास से लबरेज व्यक्ति के लिए आकाश की ऊंचाई नापना भी उ
Paras Nath Jha
कबीरपंथ से कबीर ही गायब / मुसाफ़िर बैठा
कबीरपंथ से कबीर ही गायब / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
अक्षर ज्ञानी ही, कट्टर बनता है।
अक्षर ज्ञानी ही, कट्टर बनता है।
नेताम आर सी
2579.पूर्णिका
2579.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*
*"घंटी"*
Shashi kala vyas
■ मौलिकता का अपना मूल्य है। आयातित में क्या रखा है?
■ मौलिकता का अपना मूल्य है। आयातित में क्या रखा है?
*प्रणय प्रभात*
जीने का हौसला भी
जीने का हौसला भी
Rashmi Sanjay
श्री कृष्ण अवतार
श्री कृष्ण अवतार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
Loading...