Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Apr 2023 · 1 min read

किसान का दर्द

कोई न समझे इस दुनियाँ में ,
जब दर्द किसी को होता है।॥1॥

दिनभर मेहनत करके भी ,
रात में भूखा सोना होता है॥2॥

रोटी के एक टुकड़े की खातिर ,
न जाने कितने सपने संजोता है ॥3॥

लेकिन जब रोटी न मिलती ,
वह अपनी किस्मत पर रोता है ॥4॥

अब कुछ भी पास नहीं है उसके ,
पल – पल वो सब कुछ खोता है ॥5॥

पेट भर सके हम सब का ,
इसलिए बीज वो बोता है ॥6॥

इतना सबकुछ करने पर भी ,
आखिर किसान क्यों रोता है ॥7॥

त्याग दिया सुख उसने सारा ,
और बिन बिस्तर वो सोता है ॥8॥

पैसे वालों के लिए आज भी ,
वो बस एक सिक्का खोटा है ॥9॥

स्वरचित काव्य रचना
तरुण सिंह पवार

Language: Hindi
458 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कैसे निभाऍं उस से, कैसे करें गुज़ारा।
कैसे निभाऍं उस से, कैसे करें गुज़ारा।
सत्य कुमार प्रेमी
करूँ प्रकट आभार।
करूँ प्रकट आभार।
Anil Mishra Prahari
जल बचाओ , ना बहाओ
जल बचाओ , ना बहाओ
Buddha Prakash
जीव-जगत आधार...
जीव-जगत आधार...
डॉ.सीमा अग्रवाल
आज के बच्चों की बदलती दुनिया
आज के बच्चों की बदलती दुनिया
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
dr arun kumar shastri -you are mad for a job/ service - not
dr arun kumar shastri -you are mad for a job/ service - not
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इश्क
इश्क
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
माना मन डरपोक है,
माना मन डरपोक है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
3384⚘ *पूर्णिका* ⚘
3384⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
11) “कोरोना एक सबक़”
11) “कोरोना एक सबक़”
Sapna Arora
ਹਾਸਿਆਂ ਵਿਚ ਲੁਕੇ ਦਰਦ
ਹਾਸਿਆਂ ਵਿਚ ਲੁਕੇ ਦਰਦ
Surinder blackpen
आचार्य शुक्ल के उच्च काव्य-लक्षण
आचार्य शुक्ल के उच्च काव्य-लक्षण
कवि रमेशराज
ये नयी सभ्यता हमारी है
ये नयी सभ्यता हमारी है
Shweta Soni
गुरु ही साक्षात ईश्वर
गुरु ही साक्षात ईश्वर
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
आईना सच कहां
आईना सच कहां
Dr fauzia Naseem shad
ज़मीर
ज़मीर
Shyam Sundar Subramanian
क्यूँ इतना झूठ बोलते हैं लोग
क्यूँ इतना झूठ बोलते हैं लोग
shabina. Naaz
मा ममता का सागर
मा ममता का सागर
भरत कुमार सोलंकी
!! पर्यावरण !!
!! पर्यावरण !!
Chunnu Lal Gupta
खाने को रोटी नहीं , फुटपाथी हालात {कुंडलिया}
खाने को रोटी नहीं , फुटपाथी हालात {कुंडलिया}
Ravi Prakash
"मैं" के रंगों में रंगे होते हैं, आत्मा के ये परिधान।
Manisha Manjari
बेशर्मी के हौसले
बेशर्मी के हौसले
RAMESH SHARMA
रोशनी का पेड़
रोशनी का पेड़
Kshma Urmila
दीवाली
दीवाली
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
जंजीर
जंजीर
AJAY AMITABH SUMAN
छल
छल
गौरव बाबा
याद - दीपक नीलपदम्
याद - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*राज दिल के वो हम से छिपाते रहे*
*राज दिल के वो हम से छिपाते रहे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
“दोस्त हो तो दोस्त बनो”
“दोस्त हो तो दोस्त बनो”
DrLakshman Jha Parimal
■ नज़्म-ए-मुख्तसर
■ नज़्म-ए-मुख्तसर
*प्रणय प्रभात*
Loading...