Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2024 · 1 min read

किलकारी गूंजे जब बच्चे हॅंसते है।

मुक्तक

किलकारी गूंजे जब बच्चे हॅंसते है।
घर में बच्चे फुलवारी से लगते हैं।
बच्चों से सारी खुशियां घर आंगन की,
बच्चों में ईश्वर के दर्शन मिलते हैं।

………✍️ सत्य कुमार प्रेमी

Language: Hindi
25 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विराम चिह्न
विराम चिह्न
Neelam Sharma
!...............!
!...............!
शेखर सिंह
श्रद्धावान बनें हम लेकिन, रहें अंधश्रद्धा से दूर।
श्रद्धावान बनें हम लेकिन, रहें अंधश्रद्धा से दूर।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
वाह रे मेरे समाज
वाह रे मेरे समाज
Dr Manju Saini
शब्द
शब्द
ओंकार मिश्र
Time Travel: Myth or Reality?
Time Travel: Myth or Reality?
Shyam Sundar Subramanian
तिरंगा बोल रहा आसमान
तिरंगा बोल रहा आसमान
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दीपावली
दीपावली
डॉ. शिव लहरी
हिंदू धर्म आ हिंदू विरोध।
हिंदू धर्म आ हिंदू विरोध।
Acharya Rama Nand Mandal
मज़दूर दिवस विशेष
मज़दूर दिवस विशेष
Sonam Puneet Dubey
"राबता" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
2505.पूर्णिका
2505.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
विश्व हिन्दी दिवस पर कुछ दोहे :.....
विश्व हिन्दी दिवस पर कुछ दोहे :.....
sushil sarna
सर के बल चलकर आएँगी, खुशियाँ अपने आप।
सर के बल चलकर आएँगी, खुशियाँ अपने आप।
डॉ.सीमा अग्रवाल
कभी कभी ज़िंदगी में लिया गया छोटा निर्णय भी बाद के दिनों में
कभी कभी ज़िंदगी में लिया गया छोटा निर्णय भी बाद के दिनों में
Paras Nath Jha
*रखिए जीवन में सदा, उजला मन का भाव (कुंडलिया)*
*रखिए जीवन में सदा, उजला मन का भाव (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जीवन अगर आसान नहीं
जीवन अगर आसान नहीं
Dr.Rashmi Mishra
एक शब के सुपुर्द ना करना,
एक शब के सुपुर्द ना करना,
*प्रणय प्रभात*
धरती को‌ हम स्वर्ग बनायें
धरती को‌ हम स्वर्ग बनायें
Chunnu Lal Gupta
उज्जैन घटना
उज्जैन घटना
Rahul Singh
धूल से ही उत्सव हैं,
धूल से ही उत्सव हैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
Rj Anand Prajapati
मैं तेरे गले का हार बनना चाहता हूं
मैं तेरे गले का हार बनना चाहता हूं
Keshav kishor Kumar
दाता
दाता
Sanjay ' शून्य'
धमकियां शुरू हो गई
धमकियां शुरू हो गई
Basant Bhagawan Roy
फिर कब आएगी ...........
फिर कब आएगी ...........
SATPAL CHAUHAN
जीवन के पल दो चार
जीवन के पल दो चार
Bodhisatva kastooriya
मेरी आंखों का
मेरी आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
"शब्द"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...